आगमन से लेकर जाने की अन्तिम बेला तक भ्रष्टाचार को लेकर सुर्खियों में रहे कुलपति प्रो.राजाराम




धनोपार्जन के साथ ही अपनों को पूरी ठसक के साथ पहुंचाया लाभ,भ्रष्टाचार के पुरोधा को बना दिया रजिस्ट्रार, भ्रष्टाचार का इनाम मिला तीन माह तक का बढ़ा कार्यकाल 

 जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय में भ्रष्टाचार के मामलों को लेकर अपने पूरे कार्यकाल तक सुर्खियों में रहने वाले वर्तमान कुलपति  प्रो.राजाराम यादव एक बार फिर अपने सेवा के अन्तिम दिनों में फर्जी नियुक्तियोंको लेकर चर्चा में आ गये है। हलांकि इस बार इनके साथ कुलसचिव नहीं खड़े हैं इसीलिए दोनों के बीच तलवारें खिंच गयी है । तो कुलसचिव अवकाश लेकर चले गये है। कुलसचिव  के इस निर्णय के खिलाफ कुलपति श्री यादव ने अपने खास सिपह सालार को विश्व विद्यालय का रजिस्ट्रार बना कर अपने फर्जीवाड़े को  अमलीजामा पहनाने की जुगत में लग गये है । विश्वविद्यालय कर्मचारी संघ इससे खासा नाराज है उसका मानना है कि कुलपति प्रो राजा राम अपने सेवा काल के अन्तिम समय में विश्व विद्यालय पर अनावश्यक रूप से आर्थिक बोझ डाल रहे है। जिससे विश्व विद्यालय को भारी क्षति संभव है। 
यहाँ बतादे कि कुलपति प्रो राजा राम का कार्यकाल 1मई को ही खत्म हो गया था लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते दशे को लाक डाऊन होने के कारण कुलाधिपति ने तीन महीने तक इनका कार्यकाल बढ़ा दिया। इससे कुलपति के हौसले बुलंद हैं और भ्रष्टाचार को और भी गति देने के अभियान में सक्रिय हो गये है। इस बार इनके भ्रष्ट कारनामो में शासन से नियुक्त कुलसचिव सुजीत कुमार जायसवाल इनके साथी नहीं बने तो दोनों के बीच घोर टकराहट हो गयी है जिससे उनको अवकाश लेना पड़ा है ।
खबर यह भी मिली है कि राजभवन से नये  कुलपति का आगमन इसी महीने कभी भी हो सकता है।ऐसे में वर्तमान में कुलपति प्रो.राजा राम यादव के पास अपना एजेंडा और तमाम फर्जी कार्यो को लागू किये जाने को लेकर समय बहुत कम बचा है इसलिए आजकल अनर्गल और अनीतिपूर्ण निर्णयों में वह फिर से सक्रिय हो गए है। फर्जी तरीके से अपने चहेतों को विश्व विद्यालय में नौकरी देने की फिराक में जुट गये है।  ऐसे में रजिस्ट्रार के अचानक छुट्टी पर चले जाने से विश्वविद्यालय परिसर में कर्मचारियों और शिक्षकों के बीच अफवाहों का बाजार बहुत गर्म है। विश्वविद्यालय के सूत्रों ने बताया कि इस समय रजिस्ट्रार के छुट्टी पर जाने के पीछे का मामला लॉक डाउन के दौरान पुरानी तारीखों में  विभिन्न संस्थानों और विभागों में की गई अवैध नियुक्तियाँ और निर्माण एजेंसियों को मनमाने भुगतान को लेकर है। कुलपति प्रो. राजाराम  यादव द्वारा लॉक डाउन में गोपनीय  तथा नियम कानून को ताक पर रख कर अपने चहेतों और  परिचितों की बड़े पैमाने पर नियुक्तियाँ कर दी गई हैं। यहां यह भी बता दे कि विश्वविद्यालय में कुलपति का कार्यभार ग्रहण करने के एक माह बाद अनावश्यक रूप से अपनो को लाभ पहुंचाने के प्रो. राजाराम ने आधा दर्जन नियुक्तियां करके विश्वविद्यालय पर आर्थिक बोझ डाला इसके बाद शिक्षकों की नियुक्ति के मामलेमें कार्यसमिति के विरोध के बावजूद जबरिया अपने चहेतों को शिक्षक पद पर नियुक्ति प्रदान कर ज्वाईन करा दिया इसकी शिकायत कुलाधिपति तक की गयी थी लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गयी जिससे प्रो. राजाराम  के हौसले बुलंद हैं और फिर जाने की बेला में एक फर्जी खेल कर धनोपार्जन कर लेना चाहते है। 
यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है कि  विश्वविद्यालय प्रशासन इन नियुक्तियों को बिना रजिस्ट्रार के हस्ताक्षर के जारी नही कर सकता था। क्योंकि नियमा नुसार  नियुक्तियों पर हस्ताक्षर तो  रजिस्ट्रार के ही होते हैं। कुलपति ने हस्ताक्षर के लिए कुलसचिव  सुजीत कुमार जायसवाल पर अधिक दबाव बना दिया था। कुलसचिव खुद को फंसता देख इस प्रकरण से किनारा करते हुए छुट्टी लेकर इस इन सभी प्रकरणों से पीछा छुड़ा लिया है। 
इस फर्जी वाड़े के खेल में गत एक सप्ताह से रोज बदलते घटना क्रम में कुलपति ने अपनी मंशा को अंजाम देने के लिए अब इंजीनियरिंग विभाग के शिक्षक आकंठ भ्रष्टाचारी जिनका नाम पहले भी भ्रष्टाचार को लेकर सुर्खियों में रह चुका है बीबी तिवारी को रजिस्ट्रार बना दिया गया है। रजिस्ट्रार बनाये जाने के तुरंत बाद ही बीबी तिवारी ने रजिस्ट्रार का कार्यभार भी ग्रहण कर लिया है। जहां तक भ्रष्टाचार का प्रश्न है तो इनके उपर इंजीनियरिंग विभाग में हेड आफ डिपार्टमेन्ट पद रहते हुए इन्होंने कम्प्यूटर की खरीद एवं बी टेक  की फीस बड़ा घोटाला किया था जिसमें कई सस्पेंड भी रहे है। सूत्र की माने तो शासनदेश है कि रजिस्ट्रार की अनुपस्थिति में किसी भी अधिकारी परिक्षा नियंत्रक, अथवा वित्त अधिकारी या फिर असिस्टेंट रजिस्ट्रार को चार्ज दिया जाना चाहिए।  लेकिन कुलपति ने नया इतिहास बनाते हुए पहली बार एक प्रोफेसर को रजिस्ट्रार बना दिया है। 
विश्वविद्यालय  के अर्थ व्यवस्था का हश्र जो भी हो लेकिन कुलपति एक बार फिर अपने फर्जी वाड़े को अंजाम तक पहुंचाने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है। इस भ्रष्टाचार की सूचना कुलाधिपति तक पहुंचा दी गयी है। जन चर्चा यह है कि यदि कुलाधिपति ने इसे गम्भीरता से नहीं लिया तो पूर्वांचल विश्वविद्यालय को भारी आर्थिक क्षति पहुंचेगी।



 

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

एंटी करप्शन टीम के हत्थे चढ़ा चपरासी ढाई लाख रुपए घूस ले रहा था चपरासी सहित एसीओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद