राज्यमंत्री गिरीश यादव की पहल पर जौनपुर को जल्द मिलेगा केंद्रीय विद्यालय की सौगात


सिद्धीकपुर राजकीय आईटीआई परिसर में केंद्रीय विद्यालय की स्थापना के लिए शुरू हुई पहल

जौनपुर। सदर विधानसभा को सभी संसाधनों से लैस करने के संकल्प के लिए अग्रसर शहरी आवास व नियोजन राज्यमंत्री गिरीश चंद यादव की पहल पर जौनपुर में बहुत जल्द ही केंद्रीय विद्यालय की स्थापना होगी। इसके लिए राज्यमंत्री गिरीश चंद यादव पिछले कई महीने से शासन स्तर पर दौड़-धूप करके खुद मुख्यमंत्री से सिफारिश किए थे। इस संबंध में राज्यमंत्री गिरीश चंद यादव ने 3 सितंबर को दिल्ली में केंद्रीय मंत्री शिक्षा एवं कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय धर्मेंद्र प्रधान से उनके दफ्तर में मिलकर उपरोक्त भूमि पर केंद्रीय विद्यालय की स्थापना हेतु संबंधित को आदेशित करने की मांग की। जिस पर उन्होंने स्वीकृति प्रदान कर दी है।
राज्यमंत्री श्री यादव ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री भारत सरकार को जौनपुर जिले की शिक्षा के क्षेत्र की आवश्यकताओं को देखते हुए एक केंद्रीय विद्यालय की संस्तुति हेतु पत्र लिखा था। परंतु स्थान के चयन में कुछ न कुछ तकनीकी दिक्कतों की वजह से अब तक यह संभव नहीं हुआ था। कई स्थानों को देखने के बाद और नगर के 8 किलोमीटर की परिधि में ही केंद्रीय विद्यालय की मान्यता की बाध्यता को देखते हुए राज्य मंत्री आवास एवं शहरी नियोजन गिरीश चंद यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर केंद्रीय विद्यालय स्थापना हेतु राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान जौनपुर के नाम से अंकित भूमि में से 5 एकड़ भूमि केंद्रीय विद्यालय के नाम हस्तान्तरित/एन.ओ.सी. दिए जाने का अनुरोध किया था।
जिसके अनुपालन में व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग उत्तर प्रदेश शासन के विशेष सचिव हरिकेश चौरसिया का पत्र 18 अगस्त 2021 को जिलाधिकारी मनीष वर्मा के पास आया। जिसमें उन्होंने केंद्रीय विद्यालय स्थापना हेतु राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान सिद्धीकपुर जौनपुर की अतिरिक्त भूमि में से 2.024 हे0 (5 एकड़) रिक्त भूमि निम्नलिखित प्रतिबंधों के अधीन हस्तान्तरित किए जाने हेतु अनापत्ति प्रदान की जाती है। जौनपुर को सभी संसाधनों से लैस करते हुए सदर विधानसभा को हाईटेक करने के लिए खासी पहल की जा रही है।
केंद्रीय विद्यालय की स्थापना के लिये पूर्व सांसद डॉ कृष्ण प्रताप सिंह केपी ने भी इसके लिए काफी प्रयास किया था। बड़े भौगोलिक क्षेत्रफल वाले इस जनपद में शिक्षा के क्षेत्र में जौनपुर का अलग स्थान होने की वजह से यह विद्यालय अपने जनपद के लिए भविष्य में वरदान साबित होगा। क्षेत्र के अभिभावकों को छात्रों की अच्छी शिक्षा हेतु दूर-दराज भटकना नहीं होगा।  
आईटीआई के कार्मिकों के बच्चों को मिलेगी प्राथमिकता,केंद्रीय विद्यालय के आवागमन हेतु रास्ता/गेट पृथक से होगा।केंद्रीय विद्यालय द्वारा उन्हें हस्तान्तरित की गई भूमि की चहारदीवारी को सर्वप्रथम निर्मित किया जाएगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रातः काल तड़तड़ाई गोलियां, बदमाशों ने अखिलेश यादव की कर दिया हत्या,ग्रामीण जनों में घटना को लेकर गुस्सा

सीएम योगी का चुनावी वादा बिजली बिल बकाये को लेकर दिया यह आदेश

आज से लगातार 08 दिनों तक बैंक रहेंगे बन्द जानें इस माह में कितने दिवस होगे काम काज