खण्ड शिक्षा अधिकारी संघ का गठन बसंत शुक्ला अध्यक्ष और राजीव यादव सचिव सर्वसम्मत से चुने गये



जौनपुर। उत्तर प्रदेशीय खंड शिक्षा अधिकारी संघ का चुनाव गुरुवार की देर शाम सिकरारा के बीआरसी परिसर में स्थित प्राथमिक विद्यालय ताहिरपुर के स्वामी विवेकानंद सभागार में सम्पन्न हुआ। जिसमें सभी पदाधिकारियों ने सर्वसम्मति से बीईओ बसंत शुक्ला को अध्यक्ष व राजीव यादव को मंत्री निर्वाचित घोषित किया।
पूर्व में घोषित एजेंडे के अनुरूप जिले के समस्त खंड शिक्षा अधिकारियों की बैठक में सर्वसम्मति से वरिष्ठ खंड शिक्षा अधिकारी जवाहरलाल यादव की देखरेख में निर्वाचन की प्रक्रिया सम्पन्न हुई।
बैठक में सर्वसम्मति से खंड शिक्षा अधिकारी महराजगंज बसंत शुक्ला अध्यक्ष खंड शिक्षा अधिकारी शाहगंज राजीव यादव सचिव के साथ मंत्री निर्वाचित किया। इसके साथ ही बीईओ बरसठी सुरेंद्र सिंह पटेल वरिष्ठ उपाध्यक्ष, बीईओ रामनगर सुधा वर्मा महिला उपाध्यक्ष, बीईओ मुफ्तीगंज संजय यादव कोषाध्यक्ष तथा बीईओ सिकरारा राजीव यादव प्रकाशन मंत्री निर्वाचित हुए।
निर्वाचन की प्रक्रिया प्रांतीय अध्यक्ष परमेन्द्र शुक्ला के निर्देश के क्रम में बीईओ जवाहरलाल यादव की देख रेख में सम्पन्न हुआ। बैठक में बीईओ सिकरारा राजीव यादव ने प्रांतीय नेतृत्व द्वारा दिये गए दिशा निर्देश को सभी लोगो को अवगत कराते हुए संगठन के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला। अंत मे नवनिर्वाचित जिलाध्यक्ष बसंत शुक्ला ने सभी के प्रति आभार ब्यक्त करते हुए कहा कि संवर्ग के हितों की रक्षा के लिए सदैव समर्पित रहूंगा। कहा कि संगठन के माध्यम से परिषदीय विद्यालयों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा व मिशन प्रेरणा के कार्यो को आगे बढ़ाने के लिए सदैव तत्पर रहूंगा। जिला मंत्री राजीव कुमार यादव ने कहा कि आप लोंगो ने जिस विश्वास के साथ जिला मंत्री की जिम्मेदारी सौंपी है उसका पूरी निष्ठा व ईमानदारी से निर्वहन करूँगा।
इस अवसर पर बीईओ रमा पांडे, प्रिया पांडे राजेश यादव, शैलपति यादव, सत्य प्रकाश सिंह, सुनील कुमार, अरुण यादव, शशिकांत श्रीवास्तव, मनोज यादव, अविनाश सिंह, पंकज यादव, अजीत सिंह, शशांक सिंह सहित संघ के तमाम लोग उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

पूर्वांचल की राजनीति का एक किला आज और ढहा, सुखदेव राजभर का हुआ निधन