जेल एक्ट में संशोधन: जेल के अंदर मोबाइल का प्रयोग करने पर होगी जानें कितने दिन की सजा

 

जौनपुर: जेल में मोबाइल फोन का उपयोग करने वाले बंदियों की अब खैर नहीं होगी। वर्ष 1894 के जेल एक्ट में शासन ने संशोधन कर दिया है। नए प्रविधान के तहत अब जेल में मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते पकड़े जाने वाले बंदी को दोष सिद्ध होने पर तीन से पांच वर्ष की कैद होगी। इतना ही नहीं, अदालत 20 से 50 हजार रुपये तक का जुर्माना भी लगा सकती है। ऐसे में अब उन बंदियों की मुश्किलें बढ़ जाएंगी जो जेल में चोरी-छिपे मोबाइल फोन का उपयोग कर लेते हैं। प्रदेश की जेलों में मोबाइल फोन के प्रयोग को लेकर आए दिन जो सवाल उठ रहे थे, नई व्यवस्था से इस पर काफी हद तक अंकुश लगने की उम्मीद है।
अंग्रेजों के जमाने के जिला कारागार में अभी तक जैमर नहीं लगा है। प्रस्तावित नए कारागार के चलते ऐसा कोई प्रस्ताव भी नहीं है। जेलों की सुरक्षा को लेकर शासन भी खासा गंभीर है। समय-समय पर जिला कारागार के बैरकों की न्यायिक, प्रशासनिक व पुलिस उच्चाधिकारी तलाशी भी लेते हैं। पूर्व में जिला कारागार में दो-तीन बार मोबाइल फोन बरामद भी हो चुके हैं। संबंधित बंदियों के विरुद्ध लाइन बाजार थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया था। जेल से फोन कर रंगदारी मांगने का भी प्रकरण सामने आ चुका है। बंदियों को जागरूक कर रहा जेल प्रशासन
नए एक्ट के लागू होने के बाद उसे लेकर बंदियों को जानकारी देकर जागरूक किया जा रहा है। मकसद यह है कि वे ऐसा संज्ञेय अपराध करने से तौबा करें। बंदियों को इस बारे में अच्छे ढंग से समझाया जा रहा है। इसके अलावा जेल के बैरकों पर नजर भी रखी जा रही है।

Comments

Popular posts from this blog

बाहुबली नेता एवं पूर्व विधायक के परिवार जनों पर फिर मारपीट और छेड़खानी का मुकदमा हुआ दर्ज, पुलिस जांच पड़ताल में जुटी

भाजपा के प्रत्यशियो की दसवीं सूची जारी, मछलीशहर से भी प्रत्याशी घोषित देखे सूची

लोकसभा चुनाव के लिए बसपा की चौथी सूची जारी, जानें किसे कहां से लड़ा रही है पार्टी, देखे सूची