कोरोना वायरस अपना रूप बदलने में माहिर है इसलिए उससे निपटने के लिए रणनीति बिशेष होनी चाहिए - पीएम


पीएम की बैठक को लेकर बंगाल की सीएम ने खड़ा किया सवाल लगाया आरोप बैठक में नहीं होती बोलने की आजादी 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कोविड की मौजूदा स्थिति तथा टीकाकरण की रणनीति को लेकर 10 राज्यों के जिलाधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस के जरिए बैठक किया। बैठक में  छत्‍तीसगढ़, हरियाणा, केरल, महाराष्‍ट्र,ओडिशा, पुडुचेरी, राजस्‍थान, उत्‍तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और आंध्रप्रदेश के जिलाधिकारियों और जमीनी स्तर पर काम करने वाले अधिकारियों से बातचीत के दौरान उन्होंने संवाद किया। बैठक में बंगाल का कोई डीएम शामिल नहीं हुआ। 
पीएम मोदी ने जिला अधिकारियों से बात करते हुए कहा, ‘महामारी से लड़ाई के हमारे तौर-तरीकों में निरंतर बदलाव, निरंतर नवोन्मेष बहुत ज़रूरी है। ये वायरस अपना रूप बदलने में माहिर है या कहें कि यह बहुरूपिया तो है ही, धूर्त भी है। इसलिए इससे निपटने के हमारे तरीके और हमारी रणनीति भी विशेष होनी चाहिए। टीकाकरण की रणनीति में भी हर स्तर पर राज्यों और अनेक पक्षों से मिलने वाले सुझावों को शामिल करके आगे बढ़ाया जा रहा है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि बीते कुछ समय से देश में विभिन्न अस्पतालों में उपचाररत मरीजों की संख्या कम होने लगी है लेकिन जब तक ये संक्रमण छोटे स्तर पर भी मौजूद है। तब तक चुनौती बनी रहती है। प्रधानमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि जिस तरह से वह जमीनी स्तर पर काम कर रहे हैं, इससे इस चिंता को गंभीर होने से रोकने में मदद मिली है लेकिन इसके बावजूद सभी को आगे के लिए तैयार रहना ही होगा।
प्रधानमंत्री की इस बैठक को लेकर बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मीडिया से रूबरू होते हुए प्रधानमंत्री को सवालों के कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि पीएम की बैठक में यदि राज्यों को बोलने की अनुमति नहीं थी तो उन्हें क्यों बुलाया गया। बोलने की अनुमति नहीं दिए जाने को लेकर सभी मुख्यमंत्रियों को विरोध करना चाहिए। हालांकि बंगाल में टीकाकरण की दर कम है, हमारी पॉजिटिविटी रेट घट रही है। मृत्यु दर 0.9% है। पीएम मोदी ने ऑक्सिजन और ब्लैक फंगस की समस्या को लेकर कुछ भी नहीं पूछा। पीएम ने वैक्सीन के बारे में भी हमसे कुछ नहीं पूछा। राज्य में ब्लैक फंगस के 4 मामले सामने आए हैं।'
ममता बनर्जी ने कहा कि बैठक के दौरान मुख्यमंत्रियों को पुतले की तरह बैठा कर रखा गया और किसी को बोलने का मौका नहीं दिया गया। ममता ने आरोप लगाते हुए है कि हमको वैक्सीन की डिमांड रखनी थी लेकिन बोलने का मौका नहीं मिला।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा ने पहले फेज के चुनाव हेतु प्रत्याशियों की जारी की सूची इन लगाया दांव

यूपी: भाजपा ने जारी किया पहले और दूसरे चरण में चुनाव के प्रत्याशियों की सूची,योगी जी लड़ेंगे गोरखपुर से ,देखे सूची

आइए जानते है मुन्ना बजरंगी के भाई को पुलिस ने क्यों किया गिरफ्तार