मास्टर बना डाक्टर जानिए अब कैसे पहुंचा सलाखों के पीछे जेल



कोरोना के इस दौर में जहां लोग एक दूसरे की मदद करने को आगे आ रहें वहीं कुछ लोग ऐसे भी है जो आपदा को अवसर में बदलने में लगे हुए हैं। ऐसा ही एक और मामला बुधवार को राजधानी में देखने को म‍िला। चिनहट पुलिस ने खुद को नव्या कोर मेडिक्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड का कंसल्टेंट बताने वाले शिक्षक को गिरफ्तार किया है। आरोपित लोगों को झांसे में लेकर बताता था कि उसके पास चिकित्सकों की टीम है। इंस्पेक्टर धनंजय पांडेय के मुताबिक कंचनपुर मटियारी निवासी शशिवेंद्र पटेल के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई थी।

आरोपित संक्रमण के दौरान माध्यमिक शिक्षा चयन बोर्ड से एक सरकारी अध्यापक होते हुए भी महामारी का लाभ उठाकर खुद को कंसल्टेंट, जोनल मैनेजर व चीफ मार्केटिंग आफिसर बताता था। यही नहीं, अपने पास डाक्टरों कि एक टीम होने का दावा कर इलाज के नाम पर लोगों से रुपये वसूलता था। आरोपित ने इलाज के नाम पर चिनहट निवासी खुशबू से डेढ़ लाख रुपये वसूले थे।

पीड‍िता ने बताई आपबीती

आरोपित ने पीडि़ता से कहा था कि वह घर पर ही आइसीयू जैसी व्यवस्था करा देगा। इसके बाद उनसे वह दो आक्सीजन सिलि‍ंडर भरवाने के नाम पर ले गया था। खास बात यह है कि आरोपित और रुपये की मांग कर रहा था और इस दौरान खुशबू के पति की मौत हो गई। पीडि़ता की तहरीर पर पुलिस ने गैर इरादतन हत्या व धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में एफआइआर दर्ज कराई थी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा ने पहले फेज के चुनाव हेतु प्रत्याशियों की जारी की सूची इन लगाया दांव

यूपी: भाजपा ने जारी किया पहले और दूसरे चरण में चुनाव के प्रत्याशियों की सूची,योगी जी लड़ेंगे गोरखपुर से ,देखे सूची

जौनपुर में बसपा को जोर का झटका करीने से, डॉ जेपी सिंह ने सुभासपा किया ज्वाइन