इंसुलिन पंप शरीर में शुगर लेवल को कंट्रोल करने का नया व बेहतर तरीक़ा - डा वी एस उपाध्याय

जौनपुर। लायन्स क्लब मेन द्वारा आशा दीप हास्पिटल अहियापुर में डायबिटीज जांच व जागरुकता शिविर लगाया गया। जिसमें लगभग 236 लोगो की डायबिटीज जांच किया गया तथा लोगो को डायबिटीज को नियंत्रित करने हेतु जागरूक किया गया। संस्थाध्यक्ष संदीप गुप्ता ने आये हुए लोगों का स्वागत किया। वरिष्ठ ह्रदय व डायबिटीज रोग विशेषज्ञ डा वी एस उपाध्याय ने मरीज़ो की जांच किया तथा डायबिटीज की रोकथाम व नियन्त्रण हेतु विस्तार से बताते हुए कहा कि इंसान के शरीर में बीटा सेल होते हैं जिनकी वजह से अग्‍नाश्य इंसुलिन बनाता है लेकिन डायबिटीज होने पर आपका शरीर एंटीबॉडीज सेल पैदा करता है जो बीटा सेल को मार देते हैं और इस वजह से शरीर में इंसुलिन नहीं बन पाता। आगे डा उपाध्याय ने कहा कि आप डायबिटीज की बीमारी से ग्रसित हैं और आपको अपने ब्लड शुगर को कंट्रोल करने के लिए इंसुलिन पर निर्भर होना पड़ता है तो, इस स्थिति में इंसुलिन लेने के लिए आप रोजाना कई इंजेक्शन लेते होंगे। इंसुलिन पंप इसी का वैकल्पिक तरीका है। इसके तहत इंजेक्शन के बजाय इंसुलिन पंप के जरिए शरीर को पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन के साथ जरूरत पड़ने पर बोलुस मिलता है। ऐसे में आप इंसुलिन लेने के लिए इंजेक्शन के बजाय इंसुलिन पंप का सहारा लेकर ब्लड ग्लूकोज लेवल को बेहतर तरीके से मैनेज कर सकते हैं।  इंसुलिन पंप हमारे शरीर को इंसुलिन की जितनी जरूरत होगी उतनी डोज़ डालता है। खास बात यह है कि इंसुलिन पंप शरीर में शुगर लेवल को भी कंट्रोल मे रखता है। इंसुलिन पंप डॉक्टरी सलाह के बाद ही लगाये।

आगे डा उपाध्याय ने बताया कि अपने शुगर व ब्लडप्रेशर को नियंत्रित रखें तो अन्य गम्भीर बिमारियों से सुरक्षित रह सकते हैं, डायबिटीज रोगीयों के लिए एक गोली आ गई है जिसको एक बार खाने से पूरे एक सप्ताह तक ये दवा कार्य करेगी। संचालन शकील अहमद ने किया इस अवसर पर सुभाष यादव, नीरज शाह, सैय्यद मोहम्मद मुस्तफा, अवधेश मौर्य एरिस कम्पनी के प्रतिनिधि आदि उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुलिस मुठभेड़ में मारे गए बदमाशो का शव उनके पिता ने लेने से किया इनकार जानें कारण

गुरूजी को अपनी छात्रा से लगा प्रेम रोग तो अब पहुंच गए सलाखों के पीछे,थाने में हुआ एफआइआर दर्ज

पुलिस मुठभेड़ में दो सगे भाई बदमाश मारे गये एक फरार जिसकी तलाश जारी है