यथार्थ मेडिकल स्टोर का यथार्थ (सच्चाई) दवा कालाबाजारीयों के गिरोह की गहरी साजिश


जौनपुर । जनपद में इन दिनों यथार्थ मेडिकल स्टोर रुहट्टा जौनपुर का मामला खासा चर्चा में  है। सोशल मीडिया पर हजारों लोग उस मेडिकल स्टोर के समर्थन में खड़े है। सभी लोग उसके विरुद्ध कार्यवाही की निंदा भी कर रहे है।  मूक बघिर प्रशासन कुछ चंद दवा के कालाबाजारी करने वालों के इशारे पर नाच रहा है। मोटी रकम के दम से  केवल अपने जिद पर अड़ा है। उस मेडिकल स्टोर का दोष यह कि वह हर दवा पर सीधे 20 प्रतिशत की छूट दे रहा था। गरीब मध्यम वर्ग की जनता को लाभ मिल रहा था। यह बात दवा के नाम पर गरीब जनता के जेब पर डाका डालने वालों को रास नही आई। आइए हम आपको यथार्थ मेडिकल स्टोर की कार्यवाही के यथार्थ (सच्चाई ) से रूबरू कराते हैं। 
यथार्थ मेडिकल स्टोर जौनपुर के दवा बाजार के सम्मानित कारोबारी मौर्या बंधुओं का है। दवा के बाजार में इन बंधुओं के पास कई नामी गिरामी कम्पनी की दवाओं के थोक विक्रेता का अधिकार पत्र (लाइसेंस) है।दवा के बाजार में इन बंधुओ का अपने व्यवहार और साख के बल पर दबदबा है। इन बंधुओं ने हाल ही में रुहट्टा में एक डिपार्टमेंटल स्टोर खोला। चूंकि दवा जगत में जबरदस्त पकड़ थी लिहाजा उसके एक हिस्से में दवा का भी काउंटर खोल दिया। इन बंधुओं ने दवा पर सीधे 20 प्रतिशत की छूट की घोषणा कर दी। उदघाटन होते ही दवा खरीदने के लिए भीड़ उमड़ पड़ी। इस बीच कोरोना का प्रकोप बड़ा तो वह भीड़ चौगुनी हो गई। सीधे छूट के कारण वहां दवा लेने वाले निर्धारित मूल्य से 20 प्रतिशत कम दाम पर पा रहे थे। गरीब मध्यम वर्ग को काफी लाभ हो रहा था। इतना ही नही कई महंगे इंजेक्शन और दवा पर 30 प्रतिशत तक छूट यथार्थ मेडिकल दे रहा था। 
उधर इस छूट के कारण तमाम दवा के कालाबाजारी और प्रिंट रेट पर दवा देने वाले दुकानदार कोरोना काल मे भी मक्खियां मारने की नौबत में आ गए। सबसे ज्यादा आघात तो नकली दवा बेचने वालों को लगा। फिर सब यथार्थ मेडिकल के विरुद्ध सक्रिय और लामबंद हुए। इसके लिए दवा विक्रेताओं ने साज़िश रची की कैसे इसको परेशान कर सकते है। इसके लिए दवा विक्रेताओं का कथितं संगठन केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट फ़ेडरेशन भी बाजार में मौजूद  बेईमान चोर कालाबाजारी करने वाले दवा की दुकानदारों के साथ आ गया। फिर एक सुनियोजित षड्यंत्र रचा गया। जिसमें शामिल हुआ जौनपुर का बेईमान ड्रग इंस्पेक्टर अमित बंसल। यह इंस्पेक्टर दवा व्यवसाय करने वाले से हर माह मोटी रकम वसूल करता है और उनको नकली दवा और कालाबाजारी के लिए संरक्षण देता है। वह यहाँ के बेईमान दवा कारोबारी से मिलीभगत कर यथार्थ मेडिकल पर प्रतापगढ़ के ड्रग इंस्पेक्टर से छापा डलवाया। इस मामले के लिए जौनपुर प्रतापगढ़ के ड्रग इंस्पेक्टर जौनपुर के केमिस्ट ड्रगिस्ट फ़ेडरेशन और एक दवा का कालाबाजारी करने वाला विक्रेता (जिसकी बिक्री यथार्थ मेडिकल खुलने के कारण खत्म हो गई थी) सबने एक गिरोह बना कर इस कुकर्म को कियॉ। यहाँ यह बताना भी आवश्यक है कि उक्त कारोबारी और ड्रगिस्ट फ़ेडरेशन के अध्यक्ष रिश्तेदार भी है। रिश्तेदार को बचाने के लिए यह पूरा प्रोग्राम प्लान कियॉ गया। उक्क्त कारोबारी भी काफी दागी किस्म का है। उसकी दवा बाजार से साख खत्म हो गई है। कइयों दवा के थोक विक्रेताओं के यहाँ से दवा का पैसा मार चुका है। यथार्थ मेडिकल के परिवार के अनेक थोक प्रतिष्ठानों के कुल लगभग 10 लाख रुपए डकार लिया है। अब देने का नाम भी नही ले रहा हैं। इसके पूर्व भी कई व्यवसाय कर तमाम पार्टनरशिप कर उनका पैसा हड़प जाने का मास्टरमाइंड है। उसके कई कथित पार्टनर सड़क पर आ गए है। मोटी चमड़ी का महाबेईमान यह कारोबारी कथित रूप से बिखण्डित सोच का है। वह यथार्थ मेडिकल खुलने के बाद से ही वह दिमागी बावासीर से पीड़ित हो गया है। वह उद्घाटन के ही दिन से इस स्टोर के विरुद्ध षड्यंत्र कर रहा है। उसी की परिणीति थी यथार्थ मेडिकल स्टोर पर छापा।
अब आप यथार्थ मेडिकल के छापे का भी सत्यता जाने। यह कहा गया कि आक्सीमीटर का दाम अधिक वसूल रहा था। दवा का रखरखाव सही नही था। फार्मासिस्ट नियमित मौजूद नही था। ये एसे आरोप है जो जौनपुर की हर दवा की दुकान पर पाए जा सकते है। आक्सीमीटर के दाम की बात देखी जाय तो हर दुकान से वहाँ सस्ता ही मिल रहा था। सबसे चौकाने वाली बात यह कि छापा केवल एक दुकान पर क्यो डाला गया। यथार्थ मेडिकल से मात्र 20 फीट की दूरी पर ठीक सामने वाले दवा की दुकान पर क्यो टीम नही गई। असलियत यह है कि उसी मेडिकल स्टोर ने गिरोह बना कर छापा डलवाया था। इतना ही नही यथार्थ से मात्र आधा किलोमीटर के इर्दगिर्द दर्जनों मेडिकल स्टोर थे। वहां टीम क्यो नही छापा मारने गई। केवल एक मेडिकल स्टोर को टारगेट कर छापा मारकर अपने कर्तव्यों का क्या न्यायसंगत ढंग से क्रियान्वित टीम ने किया। यह उच्चस्तरीय जांच का विषय है। इसके दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही भी की जानी चाहिए। 
अब बताते है ड्रग इंस्पेक्टर अमित बंसल के विषय में जो कि भाजपा के एक बड़े नेता के रिश्तेदार बनते है। शायद वह नेता जी इसको जानते भी नही होंगे। पर धौस बनाने के लिए उनके नाम का उपयोग करता है। महीने में इनकी जबरदस्त काली कमाई है। दवा के कालाबाजारी करने वालो से महीना बधा है। दवा के दाम पर कोई नियंत्रण नहीं है। मोटी कमाई कर रहे है। आम गरीब जनता उस भारी दाम पर दवा खरीदने को मजबूर है। 
जनपद के जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा को  सुलझा हुआ और एक ईमानदार अधिकारी माना जाता है। वे इन तथ्यों से अवगत हो जाये तो यथार्थ मेडिकल के विरुद्ध साजिश रची कार्यवाही को अपने स्तर से देख सकते है और न्याय भी कर सकते है। इतना ही नही सभी मेडिकल स्टोर पर एसडीएम के नेतृत्व में एक टीम गठित कर छापा मारकर ड्रग लाइसेंस के विरुद्ध आचरण करने वालो पर कड़ी कार्यवाही करें। तभी आम जनता को राहत मिलेगी।  

टिप्पणियाँ

  1. प्रकरण की सही तरीके से जांच करे, इस महामारी मै जो गिद्ध बन के लूट रहे है इनपर कोई कार्यवाही नहीं और जो मानवता दिखा कर दवाई पर छुट दे रहा है वहा कार्यवाही।
    वह री प्रशासन ।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीईटी साल्वर गिरोह का हुआ भन्डाफोड़, दो गिरफ्तार,एक जौनपुर दूसरा सोनभद्र का निकला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम

प्रेम प्रपंच में युवकों की जमकर पिटाई, प्रेमी की इलाज के दौरान मौत तो दूसरा साथी गंभीर