सीएम योगी के खिलाफ भाजपा के पूर्व विधायक ने जानें फेसबुक पर क्या पोस्ट किया कि पार्टी में मची खलबली




भाजपा के पूर्व विधायक बृजेश मिश्र सौरभ ने फेसबुक पर प्रदेश के मुखिया योगी के स्थान पर पूर्व आइएएस अधिकारी अरविंद शर्मा को बेहतर विकल्प का पोस्ट डालकर खलबली मचा दी है। इसे लेकर पार्टी स्तर पर अंदर ही अंदर पूर्व विधायक के खिलाफ कार्रवाई की सुगबुगाहट शुरू हो गई है। 
भाजपा नेता व पूर्व विधायक बृजेश मिश्र सौरभ ने विगत दिवस 25 मई मंगलवार को फेसबुक पर एक पोस्ट जारी किया। उसमें उनकी तरफ से लिखा गया कि उनकी भाजपा पार्टी में बड़े फ़ेरबदल की चर्चा जोरों पर है। हाल ही में स्वेच्छा से सेवानिवृत्ति लेने वाले गुजरात कै़डर के आइएएस अधिकारी अरविंद शर्मा को डिप्टी सीएम बनाने की भी चर्चा आम है। शर्मा जी के बारे में सुना है कि वह प्रशासनिक नौकरी के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के बेहद करीब थे । गुजरात और देश से जुड़े कई बड़े मामलों में उनसे राय भी ली जाती रही है। अगर अरविंद शर्मा जैसे ईमानदार प्रशासनिक अधिकारी और सहज सरल स्वभाव के व्यक्ति के हाथ सूबे की कमान सौंप दी जाए तो हमें लगता है कि इस उत्तर प्रदेश के भी दिन पुनः अच्छे हो जांएगे। उन्होंने अपनी पोस्ट में प्रधानमंत्री मोदी को संबोधित करते हुए कहा है कि हम प्रदेशवासी अनुरोध करते हैं कि पूर्व आइएएस अधिकारी अरविंद शर्मा को प्रदेश की बागडोर सौंप कर (मुख्यमंत्री बना कर) प्रदेश के जनमानस का खोया हुआ भरोसा पुनः हासिल किया जा सकता है।
भाजपा नेता हुए पोस्ट देख स्तब्ध
इस पोस्ट के जारी होते ही भाजपा में खलबली मच गई और विरोधी दलों के हाथों एक नया विषय हाथ लग गया। इस बारे में पार्टी जिलाध्यक्ष हरिओम मिश्रा कहते हैं कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है। उन्होंने पूर्व विधायक की पोस्ट को नहीं पढ़ा है। हालांकि यह उनका व्यक्तिगत विचार है। हमारे यहां पार्टी स्तर पर कोर कमेटी गठित है, वही निर्णय लेती है। ऐसे में पूर्व विधायक की टिप्पणी को लेकर पार्टी स्तर पर विचार किया जाएगा। इस मामले में पूर्व विधायक बृजेश मिश्र सौरभ का कहना कि उन्होंने प्रदेश के हालात को देखते हुए जनहित में फेसबुक पर यह पोस्ट किया है। मन की बात कहना कोई गुनाह नहीं है। अगर यह गुनाह है तो उन्हें स्वीकार्य है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चाचा भतीजी में हुआ प्यार, फिर फरार, पकड़े जाने पर हुई दैहिक समीक्षा, अब शादी की तैयारी

58 हजार ग्राम प्रधानो को लेकर योगी सरकार ने लिया अब यह फैसला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम