जेल के 06 बन्दी कोरोना से है आइसोलेट, 98 बन्दी अन्तरिम जमानत पर रिहा - शिवानी रावत


महिला बन्दीयो के साथ जेल में रह रहे बच्चों की जानें कैसे देखभाल करता है जेल प्रशासन

जौनपुर। उ0प्र0 राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, लखनऊ के निर्देशानुसार एवं  जनपद न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, जौनपुर के  अनुमति से जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्ववाधान में बन्दियों को विधिक जानकारी प्रदान करने हेतु सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, शिवानी रावत की अध्यक्षता में आज पूर्वाह्न 1ः30 बजे वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिला कारागार, जौनपुर का वर्चुवल निरीक्षण एवं विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर डिप्टी जेलर, सुनील दत्त मिश्रा, जेल पीएलवीगण दीपक, सुरेन्द्र, विमल, विकास व त्रिभुवन यादव एवं अन्य पुरूष एवं महिला बन्दीगण उपस्थित रहे। प्राधिकरण की सचिव शिवानी रावत द्वारा इस अवसर पर पूॅंछे जाने पर डिप्टी जेलर द्वारा बताया गया कि वर्तमान में कुल 1027 बन्दी जेल में  निरूद्ध हैं, जिसमें से 52 महिला बन्दी हैं, तथा 03 महिला बन्दियों की अवस्था 60 वर्ष से अधिक है। महिला बन्दियों के साथ रह रहे 06 बच्चों के खानपान, शिक्षा, खेलकूद एवं उचित देखभाल इत्यादि हेतु जेल अधीक्षक को निर्देशित किया गया। वैक्सीनेशन के सम्बन्ध में बताया गया कि 45 से 60 वर्ष तक के सभी बन्दियों को वैक्सीन की दोनों डोज लगा दी गयी है। 18 से 44 वर्ष के बन्दियों का टीकाकरण अभी नहीं हो सका है, जेल अधीक्षक को निर्देशित किया गया कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय से सम्पर्क समन्वय स्थापित कर वैक्सीनेशन कराया जाना सुनिश्चित करें।


यह भी बताया गया कि वर्तमान में 06 कोविड मरीज हैं जिन्हें अलग बैरक में आइसोलेट किया गया है। वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण (कोविड-19) की द्वितीय लहर से सुरक्षा के नियमों यथा उचित सामाजिक दूरी बनाये रखने, मास्क का प्रयोग एवं नियमित अन्तराल पर सेनेटाइजर अथवा साबुन से हाथ धोने इत्यादि के बारे में बताया गया। गरीब, असहाय एवं अक्षम बन्दियों के वादों में पैरवी हेतु निःशुल्क अधिवक्ता प्रदान कराए जाने की योजना के बारे बताया गया साथ ही साथ कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु आवश्यक सामग्री, साफ-सफाई एवं किसी बन्दी के बीमार होने पर तुरन्त चिकित्सक से इलाज की व्यवस्था कराये जाने हेतु जेल अधीक्षक को निर्देशित किया गया।
अंतरिम जमानत एवं पैरोल के सम्बन्ध में पूॅंछे जाने पर बताया गया कि अब तक 91 पुरूष एवं 07 महिला बन्दियों सहित कुल 98 बन्दियों को 60 दिन की अंतरिम जमानत तथा 07 बन्दियों को पैरोल पर रिहा किया गया। जेल पी0एल0वी गण को निर्देशित किया गया कि उक्त योग्य प्रकरणों में कोई भी बन्दी प्रार्थना पत्र प्रस्तुत करना चाहते हैं तो उनके प्रार्थना पत्र प्राथमिकता के आधार पर तैयार कराना सुनिशिचत करें, बन्दियों द्वारा अन्य किसी प्रकार की समस्या होना नहीं बताया गया।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ड्रेस के लिए बच्चे को पीटने वाला प्रिन्सिपल अब पहुंचा सलाखों के पीछे

14 और 15 दिसम्बर 21को जौनपुर रहेंगे सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव,जानें क्या है कार्यक्रम

ओमिक्रॉन से बढ़ी दहशत,पूर्वांचल के जनपदो में भी मिलने लगे संक्रमित मरीज,प्रशासनिक तैयारी तेजम