फैमिली आईडी -षएक परिवार एक पहचान योजना प्रशिक्षण,जानें इसके लाभ


जौनपुर।कलेक्ट्रेट सभागार में दोपहर 03 बजे से 04 बजे तक सभी उपजिलाधिकारियों तथा सभी खंड विकास अधिकारियों को “फैमिली आईडी-एक परिवार, एक पहचान योजना” के क्रियान्वयन के लिए ई-डिस्ट्रिक्ट मैनेजर प्रतीक उपाध्याय द्वारा प्रशिक्षण प्रदान किया गया।
ई-डिस्ट्रिक्ट मैनेजर ने बताया कि फैमिली आईडी का उद्देश्य पात्र लाभार्थियों को शत-प्रतिशत आच्छादित करना, डुप्लीकेट या फर्जी लाभार्थियों को हटाना, छूटे हुए लाभार्थियों और जरूरतमंद परिवारों की प्राथमिकता के आधार पर पहचान, सरकार की सभी योजनाओं का संतृप्तीकरण एवं लाभों के लक्षित वितरण के लिए सभी विभागों का एकीकरण करना हैं।उन्होंने बताया कि फैमिली आईडी प्रत्येक परिवार के लिए 12 अंको की एक विशिष्ट पहचान संख्या है, जिसमें परिवार के सदस्यों का विवरण दिया होगा। फैमिली आईडी डेटाबेस योजनाओं में पात्रता निर्धारित करने तथा लाभ से वंचित पात्र लाभार्थियों को लाभ देने के लिए केन्द्रीय भण्डार के रूप में कार्य करेंगा। फैमिली आईडी एक स्वैच्छिक सेवा है, केवल वे परिवार जो उत्तर प्रदेश/केन्द्र सरकार द्वारा संचालित योजनाओ का लाभ प्राप्त कर रहें है या लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, उन्हें पंजीकरण कराने की आवश्यकता हो सकतीं हैं। उन परिवारों का फैमिली आईडी कार्ड बनाया जाना है, जो राशन कार्ड धारक नहीं है।


ई-डिस्ट्रिक्ट मैनेजर ने प्रशिक्षण देते हुए बताया कि आवेदक द्वारा विभिन्न चरणों में स्वयं या जनसेवा केंद्र के माध्यम से इन प्रक्रियाओं के तहत बेवसाइट  familyid.up.gov.in पर पंजीकरण किया जा सकता है। ई-डिस्ट्रिक्ट मैनेजर द्वारा पंजीकरण के पश्चात जारीकर्ता अधिकारियों (उपजिलाधिकारी व खंड विकास अधिकारी) तथा सत्यापनकर्ता अधिकारियों (लेखपाल व  ग्राम विकास/पंचायत अधिकारी/सचिव) से सम्बन्धित ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल से सभी प्रक्रियाओं को पावर पॉइंट्स प्रेजेंटेशन एवं पोर्टल पर लाइव प्रदर्शित करते हुए विस्तार से जानकारी दी गई। साथ ही उनकी जिज्ञासों का उत्तर भी दिया गया।इस अवसर पर समस्त उपजिलाधिकारी, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी रामदरस यादव तथा समस्त खंड विकास अधिकारी उपस्थित रहे।

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर और मछलीशहर (सु) लोकसभा में जानें विधान सभा वारा मतदान का क्या रहा आंकड़ा,देखे चार्ट

मतगणना स्थल पर ईवीएम मशीन को लेकर हंगामा करने वाले दो सपाई सहित 50 के खिलाफ एफआईआर

आयोग और जिला प्रशासन के मत प्रतिशत आंकड़े में फिर मिला अन्तर