कैसे बचे महिला की अस्मत जब सिपाही निकले बलात्कारी,थाने में एफआइआर दर्ज,विवेचना शुरू

 

महिला उत्पीड़न पर आखिर लगाम लगे भी तो कैसे लगे जब रक्षक ही भक्षक बन जाए। ऐसा ही एक मामला आजमगढ़ के निजामाबाद थाना क्षेत्र में प्रकाश में आया है। थाना क्षेत्र की रहने वाली विवाहिता की तहरीर पर फरिहां चौकी पर तैनात एक सिपाही के खिलाफ शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने का मुकदमा दर्ज हुआ है।
निजामाबाद थाना क्षेत्र की रहने वाली पीड़िता ने पुलिस महकमे के शिकायत प्रकोष्ठ पर पत्रक देकर फरिहां चौकी पर तैनात सिपाही नफीस अहमद पर शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने व गर्भवती होने पर गर्भपात करा देने का आरोप लगाया है। अपनी शिकायत में उसने बताया कि वह अप्रैल 2022 में किसी काम से फरिहां चौकी पर गई थी। जहां सिपाही नफीस अहमद ने उसका मोबाइल नंबर ले लिया।
इसके बाद सिपाही ने उसे शहर के नरौली क्षेत्र स्थित एक होटल में बुला कर शादी करने की बात कहते हुए शारीरिक संबंध बनाया। जब वह शादी का दबाव बनाती तो एक माह का समय ले लेता था। बार-बार के संबंध से वह गर्भवती हो गई तो उसने दबाव बना कर गर्भपात भी करा दिया और इसके बाद शादी से भी इंकार कर दिया। जब वह चौकी पर पहुंच कर सिपाही पर शादी का दबाव बनाने लगी तो उसने तीन लाख रुपये पर सुलह-समझौता की बात किया और मुझसे सुलहनामे पर हस्ताक्षर भी करवा लिया। इसके बाद दो बाद में कुल 50 हजार रुपये भी दिया। सुलहनामे के अनुसार अब तक ढाई लाख रुपये नहीं दिया। शिकायत प्रकोष्ठ में हुई शिकायत थाने पर पहुंची तो प्रभारी निरीक्षक निजामाबाद राजेंद्र प्रसाद सिंह ने सिपाही के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कर लिया। इस बाबत पूछे जाने पर एसओ निजामाबाद ने बताया कि मुकदमा दर्ज है। जांच पड़ताल की जा रही है। जांच में आरोप की पुष्टि के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Comments

Popular posts from this blog

16 मई को कक्षा एक से आठ तक के सभी विद्यालय बन्द रहेगे - बीएसए जौनपुर

जौनपुर में चुनावी तापमान बढ़ाने आ रहे है सपा भाजपा और बसपा के ये नेतागण, जाने सभी का कार्यक्रम

अटाला मस्जिद का मुद्दा भी अब पहुंचा न्यायालय की चौखट पर,अटाला माता का मन्दिर बताते हुए परिवाद हुआ दाखिल