उप्र माध्यमिक शिक्षक संघ नवीन के प्रदेश अध्यक्ष का दावा हमारी मांग पर लगी मुहर जारी हुआ यह आदेश



जौनपुर। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ (नवीन) के प्रांतीय अध्यक्ष धर्मेंद्र यादव ने दावा किया है कि नवीन गुट के गठन (2012) के समय से मूल मांगपत्र की दूसरी और तीसरी महत्वपूर्ण मांग पर उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड ने अपनी मुहर लगा दी है। अब चयनित शिक्षकों का नियुक्ति पत्र सीधे निदेशालय स्तर से निर्गत होकर 21 दिन के भीतर कार्यभार ग्रहण करना सुनिश्चित होगा और प्रधानाचार्यो का चयन लिखित परीक्षा के माध्यम से करने संबंधी मांग पर वर्तमान सरकार द्वारा स्वीकृति मिली है। यह एक प्रकार से शिक्षको को जीत होगी।
प्रांतीय अध्यक्ष धर्मेंद्र यादव ने जनपद के मछली शहर तहसीलके जवाहरलाल नेहरू इंटर आनापुर में शिक्षकों से मुलाकात के साथ प्रदेश के सभी सम्मानित माध्यमिक शिक्षकों शिक्षिका बहनों को सरल शब्दों में बताया कि अब अधियाचन सीधे निदेशक के पास जाएगा और वहां से लोक सेवा आयोग की भांति उत्तर प्रदेश शिक्षा सेवा चयन आयोग को भेजा जाएगा। फिर आयोग चयनित कर शिक्षकों एवं प्रधानाचार्य की सूची निदेशालय को देगा तत्पश्चात वह विद्यालय आवंटित कर नियुक्ति पत्र निदेशालय से प्राप्त होगा।
प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि तदर्थ शिक्षकों को प्रभावित करने वाले 9 नवंबर 2023 को सरकार द्वारा जारी शासनादेश पर उच्च न्यायालय द्वारा राहत प्रदान करते हुए उनसे काम लेने तथा वेतन देने और सरकार शीघ्र विनियमित करने के साथ अगली सुनवाई 14 जनवरी सुनिश्चित की है। उच्च न्यायालय ने स्पष्ट रूप से 7 अगस्त 2093 से 30 दिसंबर 2000 तक के सभी तदर्थ शिक्षकों को वेतन देने की बात कही है परंतु विभाग अभी भी वेतन देने में हीला हवाली कर रहा है जिससे कई सौ शिक्षकों का परिवार आर्थिक संकट से जूझने को मजबूर है परंतु अब आगे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। एक सप्ताह के भीतर शिक्षकों की समस्या का समाधान करें अन्यथा संगठन आंदोलन को बाध्य होगा और बोर्ड की परीक्षा का बहिष्कार करने को मजबूर होगा। 


साथ ही बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए पठन-पाठन के रूप में अपने कर्तव्यों को करते हुए सभी सम्मानित शिक्षक को अपने हक-अधिकार और सेवा सुरक्षा के लिए संगठन के प्रति समर्पित रहना होगा तभी हमारी ज्वलंत और जायज पुरानी पेंशन बहाली सहित विभिन्न मांगो का समाधान करने के लिए सरकार मजबूर होगी।
इस अवसर पर पूर्व जिला मंत्री शैलेंद्र कुमार, नागेंद्र कुमार, विनय कुमार गुप्ता, शारदा प्रसाद, प्रधानाचार्य शिवाधार, सूर्यनाथ यादव, मिथिलेश कुमार ,जयप्रकाश पाल, अजीत कुमार, कांतिलाल,राजकुमार, धीरज सिंह राजेश यादव,रामसिंह आदि शिक्षक रहे।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

एंटी करप्शन टीम के हत्थे चढ़ा चपरासी ढाई लाख रुपए घूस ले रहा था चपरासी सहित एसीओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद