पुलिस ने अन्तर प्रान्तीय लुटेरों को किया गिरफ्तार

जौनपुर। जिले की महराजगंज थाने की पुलिस और क्राइम ब्रान्च ने अन्तरप्रांतीय लूटेरो के गिरोह का सरगना को पुलिस मुठभेड में साथियों संग प्रतिबंधित बोर की पिस्टल सहित गिरफ्तार कर भारी मात्रा में पिस्टल-कारतूस सहित लूट के रुपये व घटना में प्रयुक्त मोटरसाइकलें बरामद किया है।
   पुलिस अधीक्षक आषीष तिवारी ने बुधवार को पत्रकारों को बताया कि लूट के मामलों को लेकर गठित संयुक्त पुलिस टीम  को सूचना मिली कि अन्तरप्रांतीय लूटेरों का एक गिरोह   असलहों से लैस होकर किसी बड़ी लूट की घटना को अंजाम देने की नियत से एक सफेद रंग की बिना नम्बर की स्कार्पियो गाड़ी पर सवार होकर मछलीशहर की तरफ से कन्धी पुलिया होते हुए बदलापुर को जाने वाला है।
  टीम द्वारा कंधी पुलिया के पास घेराबंदी करते हुए मछलीशहर की तरफ से आ रहे स्कार्पियों सवार बदमाशों को रोकने का प्रयास किया गया तो उनके द्वारा पुलिस पर फायर किया गया लेकिन तीन बदमाशों को   पिस्टल, कारतूस के साथ पकड़ लिया गया जबकि तीन लूटेरे भागने में सफल रहें। पकडे गये बदमाशों के पास से जनपद में घटित कई लूट, छनैती की घटनाओं से सम्बन्धित रुपयें बरामद हुए है।
गिरफ्तार अभियुक्तों के बारे में एसपी ने बताया कि कमलेश बिन्द पुत्र धनुराज बिन्द ग्राम केवटली थाना महराजगंज, संतोष यादव पुत्र अमरपाल यादव ग्राम कल्याणपुर थाना सुजानगंज, रंजीत कुमार गौतम उर्फ राजा बाबू पुत्र शोभनाथ गौतम ग्राम सवंसा थाना महराजगंज के पास से 9 एमएम पिस्टल 05 जिन्दा व एक  खोखा कारतूस, दो  पिस्टल 6 कारतूस, लूट के  39550 रुपये नगद तथा महराजगंज में हुई लूट की घटना में वादी से लूटा  यूनियन बैक का पासबुक व उसकी मोटरसाइकिल की चाभी, सात  पिस्टल की मैग्जीन, एक चोरी की सीडी डिलक्श मोटसाइकिल, हिरोहोण्डा मोटरसाइकिल बरामद हुई। गिरोह के सरगना कमलेष बिन्द के खिलाफ जनपद के विभिन्न थानों में 13 मुकदमें है। उसने बताया कि वह जौनपुर में जेल मे निरुद्ध था जमानत पर छूटने के उपरान्त वह अपने साथी सचिन बिन्द निवासी मछलीशहर के साथ प्रान्त गुजरात के गांधीनगर मे जाकर रहने लगा और वहा पर माह फरवरी 2019 में दिनदहाड़े अपने साथी सचिन बिन्द, अजित बिन्द, सोनू सेख, सुधाकर बिन्द के साथ एक्सीस बैंक में घुसकर गोलियाँ चलाते हुये 44 लाख 18 हजार रुपये की लूट किया था।
  इस लूट मे उसे हिस्से के तौर 7 लाख रुपये मिले थे जिसमे से 3 लाख रुपयें अपने मामा को वहीं पर ऊधार दे दिया क्योकिं उसके मामा काफी कर्जदार हो चुके थे तथा 4 लाख रुपयां उसने अपने पटटीदार दीपचन्द्र के खाते मे डाल दिया था और दीपचन्द्र के नाम के स्कार्पियो गाड़ी बैंक से फाइनेंस कराकर खरीदवाया बरामदशुदा स्कार्पियो गाड़ी उसी लूट के रुपये से खरीदी गयी  है। गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम में त्रिवेणी लाल सेन, प्रभारी निरीक्षक थाना महराजगंज, अतुल नारायण सिंह, प्रभारी सर्विलांस, राजीव सिंह, प्रभारी स्वाट, उपनिरीक्षक संतोष पाठक, थानाध्यक्ष सुजानगंज व उनके सहयोगी रहे।

Comments

Popular posts from this blog

डीएम जौनपुर ने चार उप जिलाधिकारियों का बदला कार्यक्षेत्र जानें किसे कहां मिली नयी तैनाती देखे सूची

पुलिस भर्ती परीक्षा पेपर लीक मामले में जौनपुर की अहम भूमिका एसटीएफ को मिली,जानें कहां से जुड़ा है कनेक्शन

जौनपुर में आधा दर्जन से अधिक थानाध्यक्षो का हुआ तबादला,एसपी ने बदला कार्य क्षेत्र