बढ़ते कोरोना संक्रमण के चलते बनती जा रही है लाकडाउन की स्थिति,यूपी भी है शामिल

 

देश में लगातार बढ़ता कोरोना संक्रमण अब सरकार के लिए चिंता का बिषय बनता जा रहा है । इसी के साथ ही अस्पतालों में बेड की मारामारी भी है। दिल्ली, मुंबई, लखनऊ समेत कई राज्यों में अस्पतालों में मरीजों के लिए बेड की कमी होने लगी है। कई राज्यों में तो बगड़ती स्थिति की वजह से लॉकडाउन लगाने की नौबत तक आ चुकी है। गौरतलब है कि देश में हर दिन डेढ़ लाख से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। बीते 24 घंटे के दौरान भारत में कोविड-19 के एक लाख 61 हजार 736 नए केस दर्ज किए गए हैं। जबकि इस दौरान 879 लोगों ने दम तोड़ा है। हालांकि थोड़ी राहत की बात ये है कि बीते दिन 97,168 लोगों ने इस बीमारी को मात दिया है। 
वर्तमान में कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र ही है। यहां पर आए दिन कोरोना के रिकॉर्ड मामले दर्ज किए जा रहे हैं। बीते दिन भी यहां 51 हजार से ज्याद नए मामले दर्ज किए गए थे। ऐसे में एक बार फिर से राज्य के संपूर्ण लॉकडाउन होने की संभावना जताई जा रही है। अभी हाल ही में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपनी कोविड टास्क फोर्स के साथ बैठक की थी, जिसमें राज्य में दो से तीन हफ्ते तक का संपूर्ण लॉकडाउन लगाने की बात सामने आई थी। महाराष्ट्र में अभी नाइट कर्फ्यू और वीकेंड लॉकडाउन लगाया गया है। 
लखनऊ में भी लग सकता है लॉकडाउन उत्तर प्रदेश की बात करें तो यहां पर कोरोना के चलते स्थिति भयावह होती जा रही है। यूपी में महामारी से सबसे ज्यादा राजधानी लखनऊ ही प्रभावित हुई है। जिसके चलते राजधानी में भी संपूर्ण लॉकडाउन का खतरा मंडराने लगा है। बता दें कि लखनऊ में बीते कुछ दिनों से कोविड-19 के मामलों में तेजी दर्ज की गई है। रोजाना दर्ज होने वाले मामलों का आंकड़ा चार हजार के पार चला गया है। वहीं लखनऊ में बढ़ते कोरोना के मामलों की वजह से कई अस्पतालों में बेड्स की भी कमी होने लगी है। कई जगह टेस्टिंग को लेकर भी परेशानी है। इस बीच राज्य की योगी सरकार में मंत्री बृजेश पाठक की एक चिट्ठी आई है, जिसमें उन्होंने यह संदेह जताया है कि अगर हालात ऐसे ही बना रहे तो राजधानी लखनऊ में संपूर्ण लॉकडाउन लगाना पड़ सकता है। बता दें कि यूपी के करीब 13 जिलों में पहले ही नाइट कर्फ्यू लागू है।
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी स्थिति खराब होती जा रही है। यहां पर भी कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से अस्पतालों में बेड्स की कमी हो गई है। यहीं वजह है कि दिल्ली के 14 प्राइवेट अस्पतालों को कोविड स्पेशल बनाया गया है और हॉस्पिटल्स के साथ बैंकट हॉल जोड़े जा रहे हैं। कोरोना की खराब होती स्थिति के चलते राजधानी में लॉकडाउन का डर सताने लगाने था, हालांकि राज्य सरकार ने इस पर अपनी स्थिति साफ कर दी है। राज्य की अरविंद केजरीवाल सरकार ने कहा है कि अभी दिल्ली में लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा। हालांकि अगर हालात बिल्कुल बेकाबू हो जाए और अस्पतालों में जगह ना बचे, तो लॉकडाउन का निर्णय लिया जा सकता है। अभी दिल्ली में नाइट कर्फ्यू लगाया गया है। बता दें कि दिल्ली में एक्टिव केस की संख्या 38 हज़ार को पार कर चुकी है। बीते दिन यहां पर 11 हजार से ज्याद केस सामने आए थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रातः काल तड़तड़ाई गोलियां, बदमाशों ने अखिलेश यादव की कर दिया हत्या,ग्रामीण जनों में घटना को लेकर गुस्सा

सीएम योगी का चुनावी वादा बिजली बिल बकाये को लेकर दिया यह आदेश

आज से लगातार 08 दिनों तक बैंक रहेंगे बन्द जानें इस माह में कितने दिवस होगे काम काज