प्रतापगढ़ में पत्रकार हत्या के विरोध में जौनपुर प्रेस क्लब के बैनर तले पत्रकारों ने जताया विरोध, दिया ज्ञापन


हत्यारों के जल्द गिरफ्तारी एवं मृतक परिवार को 50 लाख रुपए के मुआवजा, पत्नी को सरकारी नौकरी,प्रदेश में पत्रकारों के सुरक्षा की किया मांग 


जौनपुर। जनपद प्रतापगढ़ में एबीपी न्यूज चैनल के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की शराब माफियाओं द्वारा की गयी हत्या के विरोध में आक्रोशित जनपद जौनपुर के पत्रकारों ने जौनपुर प्रेस क्लब के बैनर तले इकठ्ठा होकर बजरिए जिलाधिकारी एक ज्ञापन पत्र प्रदेश सरकार के मुखिया मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश को भेजा है। जिसमें पत्रकारों ने मांग किया है कि सुलभ श्रीवास्तव के हत्यारों को तत्काल गिरफ्तार कर जेल की सीखचों में कैद कराया जाये तथा पूरी घटना की जांच सीबीआई से कराया जाए। साथ ही मृतक पत्रकार के परिवार को कम से कम 50 लाख रुपए का मुआवजा एवं मृतक की पत्नी को जीविको पार्जन के लिए सरकारी नौकरी प्रदान किया जाये। साथ ही प्रदेश के पत्रकारों को सुरक्षा प्रदान करने की मांग किया गया है। पत्रकारों का ज्ञापन पत्र लेने वाले भू राजस्व अधिकारी राज कुमार द्विवेदी ने पत्रकारों को अश्वस्त किया कि जिलाधिकारी के संज्ञान में लाते हुए मांग पत्र को शासन में भेज दिया जायेगा। 
ज्ञापन पत्र देने से पहले कलेक्ट्रेट स्थित पत्रकार भवन में जौनपुर प्रेस क्लब के जिलाध्यक्ष कपिल देव मौर्य की अध्यक्षता में जनपद प्रतापढ़ की घटना सहित प्रदेश में पत्रकारों को सुरक्षित करने के मुद्दे को लेकर एक बैठक की गयी। बैठक में उपस्थित पत्रकारों सम्बोधित करते हुए जिलाध्यक्ष श्री मौर्य ने कहा की आज सह एवं सच खबरों को लिखने पर माफियाओ अपराधी तत्वों द्वारा पत्रकार की हत्यायें की जा रही है जो दुखद ही नहीं निन्दनीय भी है प्रदेश की सरकार को पत्रकारों के सुरक्षा का उचित प्रबंध करना चाहिए ताकि पत्रकार सरकार और समाज के सामने सच लाने का साहस कर सके। प्रतापगढ़ में पत्रकार की हत्या इस लिए की गई कि उनके द्वारा शराब माफियाओ के काले कारनामों और कालाबजारी की पोल खोल दिया था। अगर सरकार और समाज को सच जानना है तो पत्रकारों के सुरक्षा प्रबंध करना पड़ेगा। 
बदलापुर तहसील के अध्यक्ष केदार नाथ सिंह ने कहा कि प्रतापगढ़ की घटना को लेकर पत्रकार ने आईजी प्रयागराज को लिखित शिकायत किया था इसके बाद बाद भी पत्रकार की हत्या कहीं न कहीं कानून के रखवालों की लापरवाही मानी जा रही है। वरिष्ठ पत्रकार राज कुमार सिंह ने कहा कि सरकार से लेकर समाज तक सभी अपेक्षा करते है कि उन्हे सच से रूबरू करायें लेकिन पत्रकार के सुरक्षा को लेकर किसी भी स्तर पर कोई चर्चा नहीं होती है और किसी भी घटना को लेकर पत्रकार परिवार को मुआवजा के मुद्दे पर हर स्तर पर सांफ सूंघ जाता है।बैठक का संचालन करते महामंत्री शम्भूनाथ सिंह ने कहा अगर मीडिया के सुरक्षा को लेकर सरकार जल्द कोई योजना नहीं बना लेगी। जनहित के मुद्दे नेपथ्य में जा सकते है। प्रतापगढ़ की घटना का जिक्र करते हुए प्रशासन पर लापरवाही का आरोप भी लगाया।
इस अवसर पर पत्रकार गण आशीष पान्डेय, राकेश कान्त पान्डेय, शशिराज सिन्हा, राजेश  श्रीवास्तव, विद्याधर राय, मो अब्बास, आसिफ खान ,कुंवर दीपक सिंह रिंकू आदि ने अपने विचारों को व्यक्त करते हुए प्रतापगढ़ घटना की निन्दा किया।पत्रकारों ने दो मिनट मौन रह कर मृत आत्मा की शान्ति के ईश्वर से प्रार्थना किया। कार्यक्रम में बैठक से लेकर ज्ञापन देने तक बड़ी संख्या में पत्रकार गण उपस्थित रहे जिसमें श्री प्रकाश वर्मा,अनिल शर्मा, शशि कान्त मौर्य, असलम परवेज, डा लल्लन मौर्य, विक्रांत सिंह, संजय चौरसिया, आलोक कुमार सिंह, सुनील मिश्रा, कौशल पान्डेय, सुजीत वर्मा, दिवाकर दूबे, अजीत गिरी, अवधेश तिवारी आदि पत्रकार गण उपस्थित रहे। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ड्रेस के लिए बच्चे को पीटने वाला प्रिन्सिपल अब पहुंचा सलाखों के पीछे

14 और 15 दिसम्बर 21को जौनपुर रहेंगे सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव,जानें क्या है कार्यक्रम

ओमिक्रॉन से बढ़ी दहशत,पूर्वांचल के जनपदो में भी मिलने लगे संक्रमित मरीज,प्रशासनिक तैयारी तेजम