एमएलसी के लिए तीन नामांकन पत्र दाखिल, सपा भाजपा की सीधी टक्कर में जानें किसका पलड़ा होगा भारी


जौनपुर। एम एल सी चुनाव के लिए नामांकन के अन्तिम दिन भाजपा और सपा सहित तीन उम्मीदवारो ने अपने समर्थको एवं प्रस्तावक के साथ जिलाधिकारी के न्यायालय में पहुंच कर नामांकन पत्र दाखिल किया है। नामांकन पत्र दाखिल करने वालो में बृजेश सिंह प्रिन्सू भाजपा के प्रत्याशी के रूप में पर्चा भरा तो डाॅ मनोज कुमार यादव ने सपा के अधिकृत प्रत्याशी के रूप में पर्चा दाखिल किया है वहीं पर भानु प्रकाश ने निर्दल प्रत्याशी के रूप में नामांकन पत्र दाखिल करते हुए चुनाव की जंग में आ गये है। 
नामांकन प्रक्रिया खत्म होने के बाद अब यह स्थिति साफ हो गयी है कि जनपद में सपा और भाजपा की सीधी टक्कर इस एम एल सी के चुनाव में होने जा रही है। 
नामांकन के समय सपा और भाजपा दोनो दलो के परत्याशियों द्वारा जम कर शक्ति प्रदर्शन भी किया गया । वहीं पर जिला प्रशासन भी सुरक्षा का कड़ा पहरा लगा रखा था इसके बाद भी दोनो दलो के कार्यकर्ताओ का जोश हिलोरे लेते ही नजर आया। कार्यकर्ता मुख्य गेट पर घन्टो नारेबाजी करते रहे। जबकि निर्दल प्रत्याशी द्वारा किसी तरह का प्रदर्शन करने से परहेज किया गया। नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद सपा और भाजपा दोनो दलो के प्रतयाशियों अपने अपने तर्क प्रस्तुत करते हुए जीत का दावा किया है। 
नामांकन के समय भाजपा प्रत्याशी बृजेश कुमार सिंह प्रिन्सू के साथ राज्यमंत्री गिरीश चन्द यादव सहित विधायक रमेश मिश्रा एवं जिलाध्यक्ष पुष्पराज सिंह सहित अपना दल के राष्ट्रीय महासचिव पप्पू माली एवं गठबंधन दल के विधायक गण मौजूद रहे। नामांकन से पहले एक होटल में भाजपा ने कार्यकर्ताओ के साथ एक मीटिंग किया जिसमें भाजपा नेताओ एवं पूर्व विधायकों के साथ बाहुबली नेता धनंजय सिंह की मौजूदगी कई अनुत्तरित कहानी बयां करती नजर आयी। अपने बयान में बृजेश सिंह प्रिन्सू ने जीत का दावा करते हुए कहा कि भाजपा के कार्यकर्ता पूरी दमदारी के साथ चुनाव लड़कर जीतेंगे, मोदी योगी का नाम लेते हुए सबका विकास सबका साथ की अलख जगाया।
इसी तरह सपा प्रत्याशी डॉ मनोज कुमार यादव के साथ सपा के जिलाध्यक्ष सहित नव निर्वाचित कई विधायक गण और जिला पंचायत सदस्य गण मौजूद रहे। इनके साथ नामांकन काफिले में शामिल शबनम हिजड़ा नामक ग्राम प्रधान खासा आकर्षण का केन्द्र बना रहा है। नामांकन के बाद इनके द्वारा पंचायत के चुनाव में सपाइयों की अधिक जीत का तर्क प्रस्तुत करते हुए जीत के प्रति अश्वस्त होने का दावा किया गया। नामांकन प्रक्रिया खत्म होने के बाद सपा जनों ने भी होटल रिवर व्यू में एक बैठक कर चुनाव जीतने की योजना तैयार किया है। 
किसके दावे में कितना दम है यह तो चुनाव परिणाम आने के बाद साफ हो जायेगा। लेकिन वर्तमान समय में बृजेश सिंह प्रिंसू को अचानक सत्ताधारी दल का प्रत्याशी बनना और अब भाजपा टीम को साथ आना मंत्री विधायक की एक जुटता के साथ ही इस तरह के चुनावों के शातिर खिलाड़ी बाहुबली नेता धनंजय सिंह का साथ होना उपर से सत्ता शासन प्रशासन की हनक प्रिन्सू को काफी मजबूत बना दी है। राजनैतिक समीक्षक मानने लगे है कि बृजेश सिंह प्रिन्सू पुनः विधान परिषद का सदस्य बनने की ओर अग्रसर है। हलांकि सपा ग्राम पंचायत के चुनाव में जीते जन प्रतिनिधियों में सपा की संख्या भारी होने पर जीत का दावा भले ही कर रही है लेकिन विगत जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में सपाजनों ने 42 सदस्यो की परेड अपने नेतृत्व के समक्ष कराया था और गणना के बाद सपा के खाते में महज 12 वोट मिले थे। जीत धनंजय सिंह के पत्नी श्री कला सिंह रेड्डी की हुई जबकि श्री कला के पास मात्र एक वोट था। यहाँ यह भी बता दें कि 2016 में बृजेश सिंह प्रिन्सू बसपा के टिकट पर चुनाव लड़े उस समय भी इनके सहयोगी बाहुबली धनंजय सिंह रहे और 1765 वोट हांसिल कर सपा प्रत्याशी लल्लन प्रसाद यादव को 787 मतो के अन्तर से हरा कर विधान परिषद का सदस्य बन गये थे। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन