यूपी मिशन शक्ति: शुरूआत आज, 47 जिले की 75 इन महिलाओ को मिलेगा सम्मान पत्र


प्रदेश की महिलाओं-बेटियों को स्वावलंबी और सुरक्षा के लिए उन्हें जागरूक करने के लिए मिशन शक्ति अभियान के तीसरे चरण का शुभारंभ आज शनिवार को राजधानी के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में होगा। इस दौरान मिशन शक्ति के पहले व दूसरे चरण में उल्लेखनीय कार्य करने वाली 47 जिलों की 75 महिला अधिकारियों व कर्मचारियों को मिशन शक्ति पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। इस कार्यक्रम में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मौजूद रहेंगी। 
कार्यक्रम में मुख्यमंत्री निराश्रित महिला पेंशन योजना के तहत 29.68 लाख महिलाओं के खातों 451 करोड़ रुपये हस्तांतरित किए जाएंगे। साथ ही 1.73 लाख से अधिक नए लाभार्थियों को भी इस योजना से जोड़े जाएंगे। वहीं, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के तहत 1.55 लाख बेटियों के खातों 30.12 करोड़ रुपये हस्तांतरित किए जाएंगे। इसके अलावा 59 हजार ग्राम पंचायत भवनों में मिशन शक्ति कक्ष की शुरुआत भी की जाएगी। 
निदेशक महिला कल्याण मनोज राय ने बताया कि मिशन शक्ति के तीसरे चरण में महिलाओं को रोजगार के मुख्यधारा से जोड़ने पर फोकस किया जाएगा। इसके अतिरिक्त महिला बीट पुलिस अधिकारी की तैनाती के साथ ही 84.79 करोड़ रुपये की लागत से 1286 थानों में पिंक टॉयलेट का निर्माण किया जाएगा। महिला बटालियनों के लिए 2,982 पदों पर विशेष भर्ती की जाएगी। सभी पुलिस लाइन में बालवाड़ी क्रेच की स्थापना भी की जाएगी।

कई मायनों में खास होगा मिशन शक्ति का तीसरा चरण
निदेशक के मुताबिक मिशन शक्ति का तीसरा चरण कई मायनों में खास होगा। बालिनी दुग्ध उत्पादक कंपनी की तर्ज पर नई कंपनियां स्थापित होंगी। रायबरेली, सुल्तानपुर, अमेठी, सोनभद्र, चंदौली, मिर्जापुर, बलिया, गाजीपुर, गोरखपुर, देवरिया, महराजगंज, कुशीनगर, बरेली, पीलीभीत, लखीमपुर खीरी और रामपुर जिलों में भी ऐसी इकाइयां स्थापित की जाएंगी। इसके साथ ही दिसंबर तक एक लाख नए स्वयं सहायता समूह बनाने का भी लक्ष्य रखा गया है।


अवध क्षेत्र की इन महिलाओं का होगा सम्मान
लखनऊ : डॉ. सीमा मल्होत्रा (चिकित्सक), सीतू (सफाईकर्मी), प्रो. विनीता अग्रवाल (पीजीआई), मिनीमाल अब्राहम (नर्स), कामिनी कपूर (नर्स), विजी नायर (नर्स), मोनिका यादव (पुलिस उपाधीक्षक), रूचिता चौधरी (पुलिस उपायुक्त), विदिशा सिंह (अपर सचिव), तृप्ता शर्मा (स्वयं सहायता समूह) व डॉ. अल्का सिंह (शिक्षिका)। 
रायबरेली : पूजा चौहान (आरक्षी)।
बलरामपुर : प्रगति श्रीवास्तव (सहायक अध्यापिका)।
अंबेडकरनगर : डॉ. तारा वर्मा (प्रधानाध्यापिका)।
बहराइच : अर्चना सिंह (लेखपाल)।
सीतापुर : लालिमा वर्मा (लैब टेक्निशियन)
अयोध्या : प्रीति तिवारी (आरक्षी) व नीतू राणा (नर्स)।
बरेली : नीता अहिरवार (उप निदेशक व उप मुख्य परवीक्षाधिकारी) व नम्रता वर्मा (सहायक अध्यापक)।
वाराणसी : निरुपमा सिंह (संरक्षण अधिकारी), डॉ. पुष्पा सिंह (वरिष्ठ चिकित्साधिकारी), गीता देवी व भगवानी देवी (स्वयं सहायता समूह)।
मुरादाबाद : शिखा गुप्ता (ट्रस्टी) व कृष्णा गोसाई (आंगनबाड़ी कार्यकर्ता)।
रामपुर : मनीषा यादव (आंगनबाड़ी कार्यकर्ता)।
देवरिया :  नीरज पांडेय (आंगनबाड़ी कार्यकर्ता)।
गाजीपुर : अंजु कुशवाहा (आंगनबाड़ी कार्यकर्ता)।
कानपुर देहात : रति वर्मा (प्रधानाचार्य)।
महोबा : यशोदा देवी (स्वयं सहायता समूह)।
सोनभद्र : नजरानी देवी (स्वयं सहायता समूह)।
लखीमपुर : कमला (सहकारी समिति) व पूनम देवी (स्वयं सहायता समूह)।
जालौन : सुमन यादव (प्रधानाचार्य)
बस्ती : मानवी सिंह (सहायक अध्यापिका) व हिमांसी श्रीवास्तव (स्वास्थ्य कर्मी)।
गाजियाबाद : डॉ. सुरूचि (माइक्रोबायलॉजिस्ट) व सुधा रानी कटियार (प्रधानाचार्य)।
भदोही : डॉ. सरोज गुप्ता (प्रवक्ता)।
मिर्जापुर : डॉ. दीप्ति (चिकित्सक)
शाहजहांपुर : डॉ. मीनू अवस्थी (चिकित्सक)।
बागपत : डॉ. दीपा सिंह (चिकित्सक)।
शामली : डॉ. शाहिस्ता नाज (एपिडेमियोलॉजिस्ट)।
सिद्धार्थनगर : शीला चौरसिया (स्टाफ नर्स)
गोरखपुर : डॉ. श्वेता पांडेय (चिकित्साधिकारी) व शिप्रा सिंह (प्रवक्ता)।
आगरा : नीरज बाला कुलश्रेष्ठ (एएनएम), कमर सुल्ताना (निरीक्षक) व नीलम सिरसा (स्वयं सहायता समूह)।
इटावा : उर्वशी दीक्षित (नर्स) व यशोदा रानी (उपनिरीक्षक)।
प्रतापगढ़ : सुमन मिश्रा (आशा कार्यकर्ता)
प्रयागराज : सविता पाल (आशा कार्यकर्ता) व प्रमिला कुमारी (स्वयं सहायता समूह)।
मेरठ : डॉ. उर्मिला कार्या (चिकित्सक) व शर्ली भंडारी (नर्स)
कानपुर नगर : प्रतिमा सचान (नर्स) और राजपति (साधन सहकारी समिति)।
सहारनपुर : पूनम सैनी (ग्राम प्रधान)।
कौशांबी : रितु तिवारी (उपनिरीक्षक)।
हाथरस : नीता वीर सिंह ( प्रभारी निरीक्षक)।
महराजगंज : शालिनी (किसान व स्वयं सहायता समूह)।
जौनपुर : प्रीति श्रीवास्तव (सहायक अध्यापिका)
ललितपुर : कोमा सहरिया (वनवासी सेवाश्रम)
हरदोई : कुसुम जौहरी (सर्वोदय आश्रम) व रूबी नाज (स्वयं सहायता समूह)।
बुलंदशहर : प्रीति (स्वयं सहायता समूह)।
बलिया : प्रतिमा उपाध्याय (प्रधानाध्यापक)
फतेहपुर : आशिया फारूकी (प्रधानाध्यापक)।
कासगंज : किरनलता (लेखपाल)
फिरोजाबाद : रिंकी सिंह (आरक्षी)
संतकबीरनगर : गौरी शुक्ला (उप निरीक्षक)।
आजमगढ़ : नीलम प्रजापति (स्वयं सहायता समूह)।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अब से राशन मिलना बंद, पूरे 4 महीने के लिए लगी राशन पर रोक, जानें क्या है कारण

पूर्वांचल के रास्ते यूपी में जानें कब प्रवेश कर सकता है मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी निजात

सीएम योगी के एक ट्वीट से लखनऊ का नाम बदलने की सुगबुगाहट, जानें क्या हो सकता है नया नाम