जानते है संडे को चलने वाला बुलडोजर आखिर कैसे रूक गया, अब क्या रणनीति बनी है


जौनपुर। जेसीज से ओलन्दगंज तक रविवार को चलने वाला बुलडोजर अचानक रूक गया। आखिर ऐसा क्या हुआ कि बुलडोजर इस पास इलाके में नापी के बाद प्रशासन ने नहीं चलाया। अथवा बुलडोजर चलाने का साहस नहीं दिखा सका है ? शहर को अतिक्रमण मुक्त करने एवं सुन्दरीकरण को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने शहर की सड़को और सरकारी क्षेत्र वाले इलाकों पर किये गये अतिक्रमण को हटाने का निर्णय लेते हुए जिम्मेदारी ज्वाइंट मजिस्ट्रेट हिमांशू नागपाल को दी गयी थी। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने सड़क पर नापी कराते हुए चिन्ह लगाकर अल्टीमेटम दे दिया था कि दो दिन के अंदर अतिक्रमण हटा ले अन्यथा रविवार को बुलडोजर चलेगा और खर्चे वसूले जायेगे। प्रशासन के इस एलान से हडकंप मच गया था लेकिन आज रविवार को आखिर कार बुलडोजर नहीं चलाया जा सका है 
इस सन्दर्भ में जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा का कथन है कि जेसिज चौराहा से ओलन्दगंज तक गरजने वाले बुलडोजर को मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए संडे को रोक दिया गया। लेकिन ऐसा नहीं है कि अब बुलडोजर नहीं चलेगा। अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चलेगा लेकिन सबका पक्ष सुनने के बाद। इसके लिए तीन दिन का समय दिया गया है। अब तीन दिन बाद कार्रवाई शुरु होगी। एक दिन रामनवमी व दो दिन खुद से अतिक्रमण हटाने के लिए का समय जिला प्रशासन ने दिया है। हलांकि खबर यह भी है कि शनिवार की रात में कुछ लोगों ने अपने अतिक्रमण को खुद ध्वस्त हटाने का प्रयास किया था उनको विश्वास है कि इस बार प्रशासन मानने वाला नहीं है। मालूम हो कि सड़क पर अतिक्रमण करने वालों के खिलाफ जिला प्रशासन ने अभियान चलाने की योजना बनायी है। पहली कड़ी में जेसिज से ओलन्दगंज तक निशान लगाया गया। निशान लगते ही हड़कम्प मच गया। तय हो गया कि रविवार बुलडोजर वाला दिन रहेगा और अतिक्रमण को ध्वस्त किया जाएगा। इसकी जानकारी होते ही पीड़ित लोग अधिकारियों के गुहार लगाने लगे। कुछ ने दलील दिया कि उनकी नाप सही नहीं है। कुछ ने रामनवमी का हवाला दिया। जिलाधिकारी के यहा बात पहुंची तो डीएम ने आश्वस्त किया कि किसी के साथ ज्यादती नहीं होगी। जिसे नाप कराना है वह फिर से दस्तावेज देखकर लेखपाल को लेकर अपने सामने नाप करा ले। जब तक दुबारा नाप नहीं हो जाती कोई ध्वस्तीकरण नहीं होगा। लेकिन इसके बाद भी लोगों के मन में यह था कि अभियान चलेगा और लोगों ने शनिवार की रात में अपने अपने अतिक्रमण स्थल को ठीक किया। कुछ लोगों ने यह भी दलील दिया कि ओलन्दगंज की ओर से शुरुआत हो। क्योकि लोगों को लग रहा है कि जेसिज से कुछ दूर तक अभियान चलाने के बाद प्रसासन बंद कर देगा। इन सबके बीच संडे को भी पूरी तरह से लोग अपना अतिक्रमण खुद हटाने में जुटे रहे। जो भी हो बुलडोजर के खौफ से घबराये लोंगो को कुछ दिन की राहत मिलती नजर आ रही है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

खुशखबरी: बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग में मुख्य सेविका पद पर होगी भर्ती,जानें कौन कर सकेगा आवेदन