प्रशासन की कार्रवाई में चार नर्सिंग होम और दो सोनोग्राफी सेंटर हुए सीज संचालको में मचा हडकंप


जनपद आज़मगढ़ में जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शनिवार को बड़ी कार्रवाई की। पवई बाजार में अवैध रूप से चल रहे चार नर्सिंग होम और दो सोनोग्राफी सेंटर को सीज कर दिया। शनिवार को एसडीएम के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम की छापामारी से हड़कंप मच गया। 
एसडीएम फूलपुर ज्ञानचंद गुप्ता के नेतृत्व में एसीएमओ डॉ. संजय व सीएचसी पवई प्रभारी डॉ. अजय यादव की टीम ने पवई कस्बे में चेकिंग अभियान चलाया। टीम अम्मा सोनोग्राफी सेंटर व नर्सिंग होम पर पहुंची तो वहां कोई मरीज नहीं मिला लेकिन सोनोग्राफी मशीन चालू हाल में थी, नियमानुसार सोनोग्राफी मशीन रेडियोलॉजिस्ट की मौजूदगी में ही चालू होनी चाहिए। वहीं नर्सिंग होम में भी दो नर्सों के अलावा कोई नहीं मिला। इस पर टीम ने उसे सीज करा दिया। 
किरण नर्सिंग होम का रजिस्ट्रेशन नहीं होने पर उसे भी सीज करवा दिया गया। इसके अलावा जांच में खामियां मिलने पर  इंडियन नर्सिंग होम, शिवांगी नर्सिंग होम, शहनाज नर्सिंग होम व एक अन्य सोनोग्राफी सेंटर को भी सीज करने की कार्रवाई की गई। जांच टीम पहुंचने की जानकारी होते ही कई नर्सिंग होम संचालक ताला बंद कर वहां से हट गए। दवा विक्रेताओं ने भी अपनी दुकानों के शटर गिरा दिए थे।
एसडीएम ज्ञानचंद गुप्ता ने बताया कि 10 रुपये की दवा पर 100 रुपये का लेबल लगा कर बेचने की शिकायत थी। जिस पर टीम जांच के लिए कस्बे में पहुंची थी। पवई कस्बे में बिना लाइसेंस के दर्जनों नर्सिंग होम संचालित हो रहे हैं। जहां भर्ती होने वाले मरीजों का जम कर शोषण भी किया जा रहा है।
एसीएमओ डॉ. संजय ने कहा कि जांच के दौरान खामियां मिलने पर चार नर्सिंग होम और दो सोनोग्राफी सेंटर सीज किए गए हैं। बिना रजिस्ट्रेशन नर्सिंग होम का संचालन गलत है। ऐसे मामलों की नियमित जांच कर नर्सिंग होम, सोनोग्राफी सेंटर व पैथालॉजी संचालकों के खिलाफ आगे भी कार्रवाई की जाएगी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दबंगो के कब्जे से मुक्त करायी 30 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन