डीएम मनीष कुमार वर्मा ने एमडीएम का भोजन कर परखी गुणवत्ता,बीएसए को दिया यह निर्देश




जौनपुर। जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा के द्वारा प्राथमिक विद्यालय हैदरगंज एवं अभिनव प्राइमरी विद्यालय मीरगंज का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण में पाया कि प्राथमिक विद्यालय हैदरगंज में कुल 158 बच्चे नामांकित है। कुछ बच्चे यूनिफॉर्म पहनकर नहीं आए थे, जिस पर नाराजगी व्यक्त करते हुए बेसिक शिक्षा अधिकारी डा0 गोरखनाथ पटेल को निर्देशित किया कि अभिभावकों के साथ बैठक कर उन्हें निर्देशित किया जाए कि जो पैसे डीबीटी के माध्यम से उनके खाते में भेजे गए हैं उसके द्वारा बच्चों को अनिवार्य रूप से यूनिफॉर्म खरीद कर ही विद्यालय भेजें। 

 इस दौरान जिलाधिकारी के द्वारा कक्षा 05 के छात्र अंश एवं कक्षा 01 की छात्रा करुना से गणित के सवाल एवं उनका नाम ब्लैक बोर्ड पर लिखवाया। जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि एआरपी के द्वारा नियमित रूप से नगर क्षेत्र के विद्यालयों की जांच की जाए और बच्चों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देना सुनिश्चित किया जाए। बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिया कि सूचना दें कितने विद्यालयों में सिलेंडर पर खाना बन रहा है। 


इस दौरान जिलाधिकारी के द्वारा मिड-डे-मील में बने खाने को खाकर खाने की गुणवत्ता की जाँच की। अभिनव प्राइमरी स्कूल मीरपुर के निरीक्षण के दौरान पाया कि विद्यालय में कुल 393 बच्चे नामांकित है। उन्होंने कक्षा 3 के अंश चौरसिया एवं अनुज से गणित के सवाल हल करवाएं। उन्होंने मिड डे मील में दी जा रही खाने की गुणवत्ता की जांच की और प्रभारी प्रधानाध्यापक मुकेश सिंह को निर्देशित किया कि बच्चों को नाखून काटना, हाथ धोने का तरीका सहित अन्य मूल-भूत आदते सीखाई जाय, ताकि वह अभी से अपने जीवन में उतार सके। जिलाधिकारी ने नए क्लास का प्रस्ताव देने के भी निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि जन सहयोग एवं पुरातन छात्रों के द्वारा स्कूलों का कायाकल्प कराया जाएं। 

 इस अवसर पर डीसी निर्माण रजा हसन, मिड-डे-मील के इंचार्ज अरुण मौर्य, सहायक अध्यापिका नीति सिंह, शिक्षा मित्र कमलेश कुमारी सहित अन्य उपस्थित रहे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर रात एक छात्रा को बंगले पर भेजो'SDM पर महिला हॉस्टल की अधीक्षीका ने लगाया 'गंदी डिमांड का आरोप; अधिकारी ने दी सफाई

यूपी कैबिनेट की बैठक में जौनपुर की इस नगर पालिका के विस्तार का प्रस्ताव स्वीकृत

जफराबाद विधायक का खतरे से बाहर डाॅ गणेश सेठ का सफल प्रयास, लगा पेस मेकर