चाचा भतीजा के बीच कभी नहीं थी दूरियां राजनैतिक मतभेद था वह भी हुआ खत्म - अखिलेश यादव


मैनपुरी उपचुनाव के लिए शिवपाल यादव और अखिलेश यादव फिर एक साथ मंच पर नजर आए हैं। डिंपल यादव का चुनाव प्रचार करने के लिए रविवार को दोनों इटावा के सैफई पहुंचे। बड़े लंबे अरसे बाद चाचा शिवपाल यादव और भतीजे अखिलेश यादव के दिल मिलते हुए दिखाई दिए। जिस तरीके से मंच पर पहुंचे शिवपाल यादव का अखिलेश यादव ने गुलदस्ता देकर स्वागत किया और उसके बाद झुककर पैर छुए, इससे कहीं न कहीं आने वाले लोकसभा चुनाव में बीजेपी का खेल बिगाड़ सकता है। अगर अखिलेश यादव की चाचा शिवपाल के साथ पहले जैसी ट्यूनिंग हो गई तो ये बीजेपी के यूपी में बड़ा खतरा हो सकता है।
उत्तर प्रदेश के 2 विधानसभा सीटों और एक लोकसभा सीट पर उपचुनाव होने हैं। मैनपुरी में लोकसभा उपचुनाव होने हैं। ये सीट मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद खाली हुई है। इस सीट पर 5 दिसंबर को मतदान और 8 दिसंबर को रिजल्‍ट आएगा। यहां से सपा ने डिंपल यादव को प्रत्याशी बनाया है।
मंच से बोलते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि चाचा और भतीजे में दूरियां कभी नहीं थीं, राजनीति में दूरियां थीं। आज राजनीति में भी दूरियां भी खत्म हो गईं। इससे बीजेपी की घबरा गई है। बड़े लंबे अरसे बाद अखिलेश यादव ने खुलकर चाचा शिवपाल की तारीफ की है। कई मौकों पर अखिलेश यादव और चाचा शिवपाल से कन्नी काटते देखे गए हैं, लेकिन ये पहला मौका है कि शिवपाल यादव, रामगोपाल यादव और अखिलेश यादव एक मंच पर साथ आए ही नहीं, बल्कि अखिलेश ने साफ कर दिया कि चाचा-भतीजे की राजनीतिक बीच की दूरियां खत्म हो गई हैं।
अखिलेश यादव ने कहा कि यहां जितने पेड़ दिखाई दे रहे हैं, ये सभी हम लोगों ने लगाए हैं, ये चाचा भी जानते होंगे। अखिलेश यादव के भाषण पर चाचा शिवपाल यादव हंसते हुए दिखाई दिए। अखिलेश यादव ने कहा कि चाचा ने जो कहा ईवीएम का पूरा ध्यान रखना है। मंच पर अखिलेश यादव चाचा शिवपाल यादव के बंगल में बैठे दिखाई दिए। अंत में अखिलेश यादव ने कहा कि अगर यूपी में बीजेपी नहीं आती है तो देश में भी नहीं आएगी। मंच से जाते समय अखिलेश यादव ने रामगोपाल यादव और शिवपाल यादव के फिर पैर छुकर आशीर्वाद लिया। वहीं, शिवपाल यादव ने कहा कि एक होकर बीजेपी को हराएंगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुलिस मुठभेड़ में मारे गए बदमाशो का शव उनके पिता ने लेने से किया इनकार जानें कारण

गुरूजी को अपनी छात्रा से लगा प्रेम रोग तो अब पहुंच गए सलाखों के पीछे,थाने में हुआ एफआइआर दर्ज

पुलिस मुठभेड़ में दो सगे भाई बदमाश मारे गये एक फरार जिसकी तलाश जारी है