सपाई पहुंचे फतेहगंज पीड़ित के घर,पुलिस द्वारा अपराधियों की गिरफ्तारी और बरामदगी पर खड़ा किया सवाल



जौनपुर। लुटेरे अपराधियों द्वारा विगत दिवस 23 दिसम्बर को सायंकाल फतेहगंज बाजार में स्वर्ण व्यवसायी उमेश सेठ को गोली मारकर हत्या और लूट की घटना को लेकर लगभग एक सप्ताह बाद सपाइयों को पीड़ित परिवार की याद आयी। पार्टी के स्तर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार मल्हनी विधायक के आह्वान पर सपा के नव नियुक्त जिलाध्यक्ष राकेश मौर्य सहित पूर्व अध्यक्ष लालबहादुर यादव, एवं मछलीशहर विधायक रागिनी सोनकर के साथ सपा नेताओ का प्रतिनिधि मंडल पीड़ित परिवार के घर फतेहगंज बाजार गया।
पीड़ित परिवार से मिलने के पश्चात जिलाध्यक्ष राकेश मौर्य ने कहा कि भाजपा सरकार में अपराधी बेलगाम है फतेहगंज की घटना को देखा जाये तो सरे बजार में हत्या लूट जैसी घटना हो जा रही है तो आम जगह पर क्या होगा। मौर्य ने कहा पीड़ित परिवार वालों से मिलकर घटना की जानकारी लिया तो पता चल रहा कि अभी भी इस घटना को अंजाम देने वाले असली अपराधी पकड़े नहीं गयें है। उन्होंने कहा कि परिवार वाले प्रशासन से मांग कर रहे है कि अगर अपराधी सही पकड़े गए और समान व नगदी बरामद हो गया है तो वह बैग कहां है जिसमें समान व नगदी के साथ हमारे तिजोरी की चाभी भी थी। पुलिस न तो बैग बता रही है और न ही उसमें रखीं चाभी के संदर्भ में कुछ बता रही है पीड़ित परिवार के इन सवालों का जबाब पुलिस प्रशासन को देना चाहिए। नहीं तो यही प्रतीत होगा कि जो खुलासा पुलिस ने किया है मृतक परिवार संतुष्ट नहीं हैं। हमारी प्रशासन मांग है कि मृतक परिवार को बातों को गंभीरता से ले असली अपराधी को सामने लाए। हलांकि समाजवादी पार्टी प्रदेश सरकार से मांग करती है कि मृतक के परिजनों को एक करोड़ सहायता राशि मुख्यमंत्री राहत कोष से देने का काम करें।
इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक लकी यादव ने पीड़ित परिवार को हर संभव मदत का भरोसा दिया है। सपा के प्रतिनिधि मंडल में उपरोक्त के अलांवा राजनाथ यादव,राजन यादव, दीपचंद राम,राहुल त्रिपाठी,राजेंद्र यादव,राकेशअहीर,सोचनराम विश्कर्मा, प्रभाकर मौर्य,आर बी यादव, बच्चूलाल यादव आदि लोग शामिल रहे।
यहां यह बता दें कि पुलिस सपा के प्रतिनिधि मंडल को जाने के पहले तीन युवको को फतेहगंज बाजार के हत्याकाण्ड का दोषी मानते हुए उनके खिलाफ अपना लंगड़ा आपरेशन चला कर जेल भेज दिया है। लेकिन अगर सच में पीड़ित परिवार बैग और चाभी के मुद्दे को उठाया है और पुलिस उसकी बरामदगी नहीं की है तो पुलिसिया कार्यवाई पूरी तरह से सवालो के कटघरे में खड़ी होगी आखिर लूट के सामान की पूरी बरामदगी क्यों नहीं चाभी और बैग कहां है।

 

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद