श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा के पूर्व जिबरान का एक्स पर भड़काऊ बयान,एसटीएफ ने किया गिरफ्तार,जानें मस्जिद को लेकर क्या कहा


अयोध्या में श्रीराम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा समारोह से पूर्व बाबरी मस्जिद को लेकर सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर भड़काऊ पोस्ट करने वाले झांसी निवासी जिबरान मकरानी को यूपी एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया। उसने अपने एक्स हैंडल पर लिखा था, ''हम एक भी मस्जिद नहीं छोड़ेंगे, अगर हमसे जबरदस्ती मस्जिद छीनी गयी तो अंजाम भुगतन को तैयार रहना, बाबरी मस्जिद भी हमारी है और हमारी रहेगी।''
डीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि 22 जनवरी को श्रीराम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के मद्देनजर यूपी एटीएस द्वारा विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर पैनी नजर रखी जा रही है। साइबर पेट्रोलिंग के दौरान सामने आया कि एक्स हैंडल पर यूजर जिबरान मकरानी द्वारा विद्वेषपूर्ण व भड़काऊ पोस्ट की गयी है। जांच में सामने आया कि यह पोस्ट सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने, धार्मिक वैमनस्य व उन्माद फैलाने के उद्देश्य से की गयी है। एडीजी एटीएस मोहित अग्रवाल के निर्देश पर टीम ने जब इसकी पड़ताल की तो पता चला कि भड़काऊ पोस्ट करने वाले हैंडल को झांसी निवासी जिबरान मकरानी संचालित करता है।
जिसके बाद उसे पूछताछ के लिए एटीएस की झांसी यूनिट में बुलाया गया। पूछताछ में उसने बताया कि उसने बाबरी मस्जिद का बदला लेने के उद्देश्य से यह पोस्ट किया था ताकि मुसलमान भाई राम मंदिर को नेस्तनाबूद कर दें, जैसे हमारे बुजुर्गों ने किया था। बाद में पुलिस से बचने के लिए उसने पोस्ट को डिलीट कर दिया था। जब एटीएस ने उसके मोबाइल को खंगाला तो उसमें पोस्ट के स्क्रीनशॉट्स, जैसे बाबरी मस्जिद के विध्वंस, इजराइल पर हुए हमास के आतंकी हमले का समर्थन करने वाले और पीएफआई के समर्थन में किए गये पोस्ट मिले। 
इस संबंध में उसने बताया कि वह मुस्लिमों पर हो रहे अत्याचार से आहत है। वह इन भड़काऊ स्क्रीनशॉट्स को अपने एक्स हैंडल पर दोबारा पोस्ट करता है ताकि इनका प्रचार मुस्लिमों के बीच हो सके। एटीएस ने उसके खिलाफ झांसी के कोतवाली नगर में मुकदमा दर्ज कराया है। बता दें कि मुकरयाना निवासी 24 वर्षीय जिबरान ने झांसी की बिसाती बाजार मस्जिद से हाफिज कोर्स किया है।
डीजी प्रशांत कुमार ने बताया कि प्राण प्रतिष्ठा समारोह के दृष्टिगत प्रदेश पुलिस की साइबर सेल हर सोशल मीडिया पोस्ट पर पैनी नजर रख रही है। जिलों के अलावा यूपी एटीएस, एसटीएफ और डीजीपी मुख्यालय की साइबर क्राइम सेल में भी विशेष टीमों को गठित किया गया है, जो लगातार अराजक तत्वों द्वारा माहौल बिगाड़ने की कोशिश से जुड़ी पोस्ट पर नजर रखते हुए कार्रवाई कर रही है। ऐसी कोई भी पोस्ट सामने आने पर संबंधित जिलों को तत्काल सूचना दी जाती है, ताकि तत्काल आरोपी को दबोचा जा सके। बीते एक माह के दौरान कई लोगों को सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने के आरोप में पकड़ा जा चुका है।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद