तेज रफ्तार का कहर: भीषण सड़क दुर्घटना में तीन व्यक्तियों की दर्दनाक मौत, घन्टे भर मार्ग रहा जाम

 

सुल्तानपुर जिले के लंभुआ स्थानीय कोतवाली क्षेत्र के लखनऊ - वाराणसी फोरलेन पर डकाही मोड़ के पास शुक्रवार सुबह वाराणसी से लखनऊ जा रही एसयूवी ने सामने से आ रहे ऑटो को टक्कर मार दी। हादसे में आटो सवार दो बुजुर्ग समेत तीन लोगों की मौत हो गई। दुर्घटना के बाद एसयूवी सवार लोग फरार हो गए। हादसे वाली लेन पर करीब आधे घंटे तक आवागमन बाधित रहा। बाद में पुलिस ने क्षतिग्रस्त वाहनों को फोरलेन से हटाकर आवागमन बहाल कराया।
लंभुआ कोतवाली क्षेत्र के डकाही मोड़ के पास शुक्रवार करीब दस बजे वाराणसी से लखनऊ एक एसयूवी जा रही थी। जबकि, शहर की तरफ से एक ऑटो लंभुआ कस्बे में जाने के लिए डकाही मोड़ कट से होकर मुड़ गया। एसयूवी के चालक ने ऑटो को रोकने के लिए हॉर्न बजाया। साथ ही खुद की कार रोकने का प्रयास भी किया।
अचानक ब्रेक लगाने के बाद भी एसयूवी की ऑटो से आमने - सामने टक्कर हो गई। एसयूवी डिवाइडर से टकराते और अवरोध तोड़ते हुए ऑटो समेत दूसरे लेन पर पहुंच गई। करीब 40 - 50 मीटर तक सड़क पर घिसटते वाहन जब रुके तो सड़क पर खून ही खून बिखरा था। दुर्घटना की जानकारी होने पर बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई। 
हादसे की जानकारी पर पहुंची लंभुआ कोतवाली पुलिस ने राहगीरों की मदद से घायलों को स्थानीय सीएचसी में भेजा। जहां कोतवाली देहात के वजूपुर पखरौली निवासी गुरुदीन निषाद (62) की मौत हो गई। जबकि, दो अन्य गंभीर रूप से जख्मी थे। जिन्हें चिकित्सक ने इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया। रास्ते में ही एक घायल ढाखापुर चांदा निवासी राजेश कुमार (40) व एक अन्य अज्ञात बुजुर्ग (60)ने भी मेडिकल कॉलेज पहुंचने से पहले ही दम तोड़ दिया था। उधर, दुर्घटना के बाद फोरलेन पर वाहनों का आवागमन बाधित हो गया। पुलिस ने दोनों वाहनों को सड़क से हटाकर आवागमन सुचारू कराया। प्रभारी निरीक्षक अखंडदेव मिश्र ने बताया कि अज्ञात शव के पहचान का प्रयास किया जा रहा है। अभी कोई तहरीर नहीं मिली है।
वाहनों की जोरदार टक्कर की आवाज सुनकर डकाही गांव के लोग पहुंचे तो फोरलेन पर बिखरे वाहनों के कलपुर्जे व खून का मंजर देख दंग रह गए। ग्रामीण जनो ने तत्काल हादसे की सूचना पुलिस व एंबुलेंस को दी। घायल ऑटो में तड़प रहे थे तो एक व्यक्ति का शव ऑटो में ही फंसा हुआ था। हादसे के बाद एसयूवी पर सवार लोग व चालक फरार हो गए।
हादसे में क्षतिग्रस्त हुए दोनों वाहनों पर नंबर नहीं लिखा हुआ था। मौजूद लोग नंबर से वाहन स्वामी का नाम - पता जानने का प्रयास कर रहे थे। नंबर नहीं होने से वह वाहन स्वामियों का पता नहीं लगा सके।
फोरलेन पर हादसे के बाद एंबुलेंस को कॉल किया गया। एंबुलेंस आने में देरी होती देख एसएचओ अखंडेदव मिश्र ने घायलों को ई रिक्शा व जीप से अस्पताल भिजवाया। बाद में आई एंबुलेंस रेफर केस को लेकर मेडिकल कॉलेज रवाना हुई।

Comments

Popular posts from this blog

सड़क दुर्घटना में सिपाही की मौत विभाग में शोक की लहर

एसपी जौनपुर ने फिर आधा दर्जन से अधिक थाना प्रभारियों का किया तबादला

जौनपुर जलालपुर थाने के नये थानेदार को सिर मुड़ाते ही पड़े ओले, रेहटी गांव में हत्या कर फेंकी लाश मिलने से इलाके में सनसनी