मल्हनी में अमित शाह की ललकार, 7 मार्च को कमल की बटन दबाना 11 मार्च को माफिया होगा जेल में


जौनपुर। जनपद की अति संवेदनशील मल्हनी विधानसभा क्षेत्र स्थित यादवेश इन्टर कालेज के मैदान में जनसभा को संबोधित करते हुए भारत सरकार के गृह मंत्री अमित शाह ने माफियाओं पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अतीक, मुख्तार और आज़म कहां हैं। उन्होंने कहा कि एक दो छूट गए हैं। 7 मार्च को कमल का बटन दबाना है और 11 मार्च को वो भी जेल में होंगे। बिना नाम लिए उन्होंने बाहुबली धनंजय सिंह पर निशाना साधा। उनके लगभग सात मिनट के भाषण में अखिलेश पर निशाने पर रहे।

गृहमंत्री ने कहा कि यूपी को अपराध मुक्त बनाने की यात्रा भाजपा ने शुरू की है। मल्हनी में उमानाथ सिंह का बहुत बड़ा ऋण है। मल्हनी वाले केपी को जिताकर ये कर्ज सूद समेत लौटा देना है। यूपी को माफिया मुक्त करने का वादा है। उसमें थोड़ी सी कसर छूट गई है। बिना नाम लिए उन्होंने बाहुबली धनंजय सिंह पर निशाना साधा। एक बार मल्हनी में कमल खिला दो वो भी मुख्तार के साथ दिखाई देंगे।


गुंडे और माफिया मल्हनी का विकास नहीं कर सकते। ये संस्कार केपी सिंह के पास है। पीढ़ी दर पीढ़ी केपी सिंह के परिवार ने जौनपुर के विकास में योगदान दिया है। 2000 हज़ार करोड़ की भूमि भूमाफियों के कब्जे से छुड़ा ली। दीन दयाल उपाध्याय के सिद्धान्त के अनुसार गरीब कल्याण के लिए भाजपा की सरकार ने काम किया है।

उन्होंने कहा कि जब वैज्ञानिकों ने कोविड का टीका ढूंढ लिया तो पीएम ने वैज्ञानिकों के लिए ट्वीट किया। उन्होंने ट्वीट कर वैज्ञानिकों का आभार प्रकट किया था। वहीं दूसरी तरफ अखिलेश यादव ने इसका विरोध किया। उन्होंने कहा कि मोदी का टीका मत लगवाओ। लेकिन 10 दिन बाद रात के अंधेरे में अखिलेश यादव ने खुद डरकर टीका लगवा लिया। उन्होंने कहा कि यूपी की जनता ने अखिलेश यादव की बात नहीं सुनी। अगर अखिलेश यादव की बात सुनी जाती तो तीसरी लहर का सामना नहीं कर पाते। अखिलेश यादव लोगों की जान की परवाह किए बिना राजनीतिक खिचड़ी पकाते हैं।


जाते जाते उन्होंने मल्हनी की जनता से आग्रह किया और कहा कि क्या आप लोग मेरी बात मानेंगे।उन्होंने कहा कि इस बार मल्हनी में किसी बाहुबली को मत जीतने दीजिये। एक पार्टी है जो बाहुबलियों की है वहीं दूसरी तरफ एक आदमी खुद बाहुबली है। ऐसे लोगों को इस बार नहीं जिताना है। आप लोग केपी को विधायक बनाओ हम प्रदेश का नेता बनाने का काम करेंगे। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अब से राशन मिलना बंद, पूरे 4 महीने के लिए लगी राशन पर रोक, जानें क्या है कारण

पूर्वांचल के रास्ते यूपी में जानें कब प्रवेश कर सकता है मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी निजात

सीएम योगी के एक ट्वीट से लखनऊ का नाम बदलने की सुगबुगाहट, जानें क्या हो सकता है नया नाम