रेलवे ट्रैक पर 14 वर्षीय बच्चे की लाश मिलने से सनसनी हत्या की प्रबल संभावना,पुलिस जांच में जुटी



जौनपुर। रेलवे ट्रैक पर बच्चे की लाश मिलने से जहां परिवार में कोहराम मचा हुआ है वहीं पर आम जनमानस दुःखी एवं दहशत के साये में आ गया है। हलांकि घटना की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे मे लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और बच्चे के मौत का सच खोलने के लिए छानबीन शुरू कर दिया है। इस घटना में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मृत छात्र का स्कूल बैग अमेठी जिले में एक ट्रेन की बोगी में मिला है। 
खबर है कि जनपद प्रयागराज के थाना सराय ममरेज क्षेत्र स्थित पतईयां गांव निवासी राधवेन्द्र प्रताप सिंह मुंगराबादशाहपुर में जंघई रोड स्थित मंडी के पास किराये के मकान में रहते है। उनका 14 वर्षीय पुत्र आदित्य सिहं गुरूकुल पब्लिक स्कूल मे कक्षा 6 का छात्र है। सोमवार की सुबह वह अपनी बहन के साथ साईकिल से स्कूल के लिए निकला लेकिन वह स्कूल में न जाकर कहीं और चला गया। स्कूल बंद होने के पहले स्कूल के प्रबंधक विशम्भर दूबे के पास एक फोन आया कि स्कूल के ड्रेस मे एक बच्चा वाराणसी लखनऊ रेल प्रखंड पर प्रतापगढ जिले के पृथ्वीगंज के पास बच्चे का शव पड़ा है। वह तत्काल उसके क्लास रूम मे गये तो आदित्य सिंह अपनी कक्षा मे नहीं था।परिजनों को सूचना हुई तो वह भी आनन फानन में स्कूल आए और फोटो देखकर बच्चे की पहचान की और दहाड़े मारकर रोने लगे।पुलिस को सूचना देते हुए परिजन देर रात पृथ्वीगंज पहुंचे और शव की शिनाख्त की । बच्चे का स्कूल बैग अमेठी मे ट्रेन की बोगी से बरामद किया गया। छात्र स्कूल से प्रतापगढ़ कैसे पहुंचा और क्यों गया इसको लेकर परिजन हतप्रभ है। परिजनों का कहना है कि उनके बच्चे के साथ कुछ न कुछ अनहोनी हुई है। पुलिस ने शव को अपने कब्जे मे लेकर पोस्टमार्टम के लिए रवाना कर दिया है और घटना को लेकर छानबीन भी शुरू दिया है। थानेदार भी हत्या की संभावना से इनकार नहीं कर रहे है। इसमें सबसे महत्वपूर्ण यह है कि बच्चे की लाश जनपद प्रतापगढ़ में मिली और बस्ता जनपद अमेठी में एक ट्रेन की बोगी में मिला है जो हत्या की संभावना का संकेत दे रहा है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भीषण सड़क दुर्घटना में दस लोगो की मौत दो दर्जन गम्भीर रूप से घायल, उपचार जारी

यूपी में जौनपुर के माधोपट्टी के बाद संभल औरंगपुर जानें कैसे बना आइएएस आइपीएस की फैक्ट्री

जानिए इंटर के छात्र ने प्रधानाचार्य को गोली क्यों मारी, हालत नाजुक, छात्र पुलिस पकड़ से दूर