नगर निकाय चुनाव अब जनवरी 23 में हो जायेगा आयोग ने दिया निर्देश


उत्तर प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव जनवरी के पहले और दूसरे सप्ताह तक कराए जाएंगे। 2017 के निकाय चुनाव के बाद कुछ निकायों में पहली बैठक 15 जनवरी तक होने के कारण राज्य निर्वाचन आयोग को 15 जनवरी तक चुनाव कराने का समय मिल गया है।
प्रदेश में 545 नगर पंचायतों, 200 नगर पालिका परिषद और 17 नगर निगम सहित 762 नगरीय निकायों में चुनाव प्रस्तावित है। निकाय चुनाव के लिए बृहस्पतिवार को लखनऊ सहित 48 जिलों के नगरीय निकायों में वार्ड आरक्षण का प्रस्ताव जारी होने के साथ ही आरक्षण निर्धारण की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। सूत्रों के मुताबिक 10 जनवरी तक सभी नगरीय निकायों में वार्ड, चेयरमैन और महापौर के आरक्षण का निर्धारण हो जाएगा।
नियमानुसार आम निकाय चुनाव के बाद निकाय की पहली बैठक होने की तिथि से पांच वर्ष बाद नए निकाय का गठन होना आवश्यक है। आयोग के विशेष कार्याधिकारी एस.के. सिंह ने बताया कि 2017 के निकाय चुनाव के बाद कुछ निकायों में पहली बैठक  15 जनवरी 2018 को हुई थी। लिहाजा आयोग को 15 जनवरी तक निकाय चुनाव संपन्न कराने हैं। सूत्रों के मुताबिक दिसंबर के दूसरे सप्ताह तक आरक्षण निर्धारित होने के साथ ही आयोग चुनाव की तारीखों का एलान करेगा। जनवरी के पहले और दूसरे सप्ताह तक चुनाव कराकर परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे।
राजनीतिक दलों को मिलेगा पर्याप्त समय
जनवरी के पहले और दूसरे सप्ताह तक निकाय चुनाव कराने से सत्तारूढ़ दल भाजपा के साथ समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, बसपा, सुभासपा, रालोद, अपना दल (एस) सहित अन्य दलों को भी प्रत्याशी चयन से लेकर चुनाव प्रचार के लिए पर्याप्त समय मिल जाएगा। गुजरात उप चुनाव और मैनपुरी, रामपुर और खतौली उप चुनाव में उलझे राजनीतिक दल भी उप चुनाव परिणाम के बाद ही निकाय चुनाव की तारीखों की घोषणा चाहते हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मेदांता में इलाज करा रहे इस आईएएस अधिकारी का हुआ निधन

जौनपुर में फिर तड़तड़ायी गोलियां एक युवक गम्भीर रूप से घायल बदमाश फरार, पुलिस अंधेरे में चला रही छानबीन की तीर

थाना चन्दवक की वसूली लिस्ट वायरल होने पर एक बार फिर सुर्खियों में पुलिस जांच शुरू