फर्जी वाड़ा करने में हाईकोर्ट की यह महिला अधिवक्ता हुई गिरफ्तार,मचा हड़कंप

हाईकोर्ट में मल्टी टास्किंग स्टाफ का फर्जी नियुक्ति पत्र लेकर दो युवक पहुंच गए। जांच पड़ताल में नियुक्ति पत्र फर्जी पाए जाने पर हड़कंप मच गया। तफ्तीश के बाद पता चला कि दोनों आरोपियों को एक महिला अधिवक्ता तथा उसके भाई ने फर्जी तरीके से पास बनवाकर हाईकोर्ट में प्रवेश दिलाया था। फिलहाल रजिस्ट्रार जनरल की तहरीर पर भाई-बहन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दोनों को गिरफ्तार करते हुए जेल भेज दिया गया है। जालसाजी के इस मामले में शामिल अन्य लोगों के बारे में पुलिस जांच-पड़ताल में जुटी है।
हाईकोर्ट क्रिकेट ग्राउंड के पास आलोक सिंह निवासी बांदा और प्रद्युमन सिंह निवासी लालपुर दरौटा, फतेहपुर मल्टी टास्किंग स्टाफ का नियुक्ति पत्र लेकर पहुंचे। इस पर हाईकोर्ट का मोनोग्राम लगा हुआ था साथ ही दोनों के पास बिना भरे हुए शपथ पत्र प्रारूप भी पाए गए।
आरोप है कि दोनों को मुंडेरा की महिला अधिवक्ता प्राची श्रीवास्तव और उसके भाई हर्ष श्रीवास्तव, जो अपने को मुंशी बताता है, ने हाईकोर्ट परिसर में प्रवेश दिलाया। न्यायालय परिसर की सुरक्षा में लगे जवानों ने पूछताछ की तो दोनों युवकों के पास नियुक्ति पत्र जबकि हर्ष श्रीवास्तव के पास हाईकोर्ट का एंट्री पास और एक अन्य एंट्री पास भी मिला, जिस पर रजिस्ट्रार प्रोटोकॉल की दस्तखत एवं मुहर थी।
जब गहनता से इन दस्तावेजों की जांच पड़ताल की गई तो यह सभी कूटरचित एवं फर्जी पाए गए। इसके बाद देर रात पुलिस अफसरों को बुलाया गया। मामले में प्रथमदृष्टया कूटरचना और धोखाधड़ी की बात सामने आने पर रजिस्ट्रार जनरल राजीव भारती की ओर से कैंट थाने में तहरीर दी गई।
इसके आधार पर मुकदमा दर्ज करते हुए महिला अधिवक्ता व उसके भाई को गिरफ्तार कर कोर्ट की अनुमति से जेल भेज दिया गया। पुलिस ने दोनों की गिरफ्तार की पुष्टि की। हालांकि इससे ज्यादा और कुछ बताने से इनकार किया गया। कैंट थाना प्रभारी सुनील कनौजिया ने बताया कि तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज किया गया है। अन्य बिंदुओं के बारे में विवेचना जारी है। उधर, आला अफसरों ने भी कहा, विवेचना शुरू है, विस्तृत जांच-पड़ताल के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा।

Comments

Popular posts from this blog

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?

स्वामी प्रसाद मौर्य के कार्यालय में तोड़फोड़ गोली भी चलने की खबर, पुलिस जांच पड़ताल में जुटी

लोकसभा चुनाव के लिए सायंकाल पांच बजे तक मतदान का प्रतिशत यह रहा