चुनावी सीजन में महिलाओ के श्रृंगार पर मंहगाई की जबरदस्त मार सोने के दाम सातवें आसमान पर सरकार क्यों है बेखबर?


जौनपुर। वर्तमान में चुनावी सीजन चल रहा है और सोने का दाम लगातार बढ़ता जा रहा है अब सोना खरीदने का सपना, सपना ही न रह जाए। ऐसा इसलिए क्योंकि इसके दाम हर रोज बढ़ रहे हैं। सोने की कीमत अब तक के इतिहास में पहली बार 76 हजार के पार पहुंची गयी है। हालांकि कुछ दिनों बाद दाम में गिरावट की संभावना थी लेकिन अब वह क्षीण हो चुकी है इसकी कीमत 76 हजार  रुपये के पार प्रति दस ग्राम पहुंच गई है।
सोने की कीमतें रिकॉर्ड ऊंचाई पर है। केन्द्र और प्रदेश की सरकारें के केवल महिला हितो की बाते करती है लेकिन महिलाओ के श्रृंगार के सामान लगातार मंहगे हो रहे है। सरकार बेखबर है। बीते बीस दिनो में सोने के दाम में 15 से 20 हजार रुपये से अधिक का इजाफा हुआ है और इसकी कीमत 76 हजार रुपये प्रति दस ग्राम पहुंच गई है। हालात ऐसे है कि अब सोने में निवेश करना हर किसी के बस की बात नहीं है। कीमतें बढ़ने से सराफा बाजार में भी व्यापार पर खासा असर पड़ गया है।
ग्राहकों के साथ ही आभूषण कारोबारियों को भी समझ में नहीं आ रहा है कि यह भाव कहां जाकर रुकेंगे?। कुछ बड़े व्यवसायी अनुमान लगा रहे है की यह मुल्य वृद्धि एक लाख तक पहुंच सकती है। मार्च को सोने का भाव 65,800 था। इसके बाद भाव में दो से पांच सौ की तेजी आई और फिर देखते-देखते इसकी कीमत 68100 रुपये प्रति दस ग्राम हो गई है। इसके बाद 03 अप्रैल को 69290 हजार रुपए पहुंच गई और अब अप्रैल में 76 हजार रुपए को पार कर गई है। बीते तीन साल के आंकड़ों को देखें तो सोने के दामों में करीब 35 हजार रुपये तक की तेजी आई है।
एक मार्च 2021 में सोना 45,300 था। एक मार्च 2022 को 52,200 व एक मार्च 2023 को 56,800 रुपये प्रति दस ग्राम कीमत थी, लेकिन अप्रैल 2024 में तो सभी रिकॉर्ड टूट गए। एक मार्च को सोने का भाव 64,800 रुपये था, जो दो अप्रैल को 70 हजार रुपये के पार पहुंच गया 03 अप्रैल को 69290 रूपए प्रति 10 ग्राम सोना हो गया था। लेकिन 13 अप्रैल 24 को सोने का मुल्य 76 हजार रुपए प्रति 10 ग्राम हो गया है।

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर और मछलीशहर (सु) लोकसभा में जानें विधान सभा वारा मतदान का क्या रहा आंकड़ा,देखे चार्ट

मतगणना स्थल पर ईवीएम मशीन को लेकर हंगामा करने वाले दो सपाई सहित 50 के खिलाफ एफआईआर

आयोग और जिला प्रशासन के मत प्रतिशत आंकड़े में फिर मिला अन्तर