पत्रकार की गोली मारकर हत्या, हत्यारों के सुराग में लगी पुलिस,अपराधी पुलिस पकड़ से है दूर

 




 जनपद वाराणसी के रोहनिया थाना क्षेत्र में सोमवार की रात को पत्रकार एवं प्रॉपर्टी डीलर एनडी तिवारी की गोलियों से भून कर हत्‍या कर दिया गया है। इस मामले में यूपी पुलिस ने शीघ्र जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। खबर है कि  सोमवार की रात ताबड़तोड़ गोलियों से छलनी कर प्रॉपर्टी डीलर एनडी तिवारी की हत्‍या कर दी गई। आनन फानन रात में ही पुलिस टीम बनाकर मामले में आरोपितों को गिरफ्तार करने के लिए दविसें दी जा रही है लेकिन हत्यारे पुलिस पकड़ से दूर है।

 देर रात गोलियों की तड़तड़ाहट से पूरा इलाका गूंज उठा और बाइक सवार बदमाश प्रॉपर्टी डीलर को पांच गोलियां मारकर फरार हो गए। एनडी तिवारी को दो गोली गर्दन और तीन गोली कमर में लगी थी। स्‍थानीय लोगों के अनुसार दो बाइक पर सवार बदमाशों ने वारदात को अंजाम दिया था। रात में ही गंभीर हालत में उनको अस्‍पताल ले जाया गया जहां इलाज के दौरान उन्‍होंने दम तोड़ दिया। रात में ही सूचना पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों ने मामले की जांच पड़ताल करने के साथ ही संदिग्‍धों की सूची बनाकर टीम को आवश्‍यक दिशा निर्देश दिए थे।हालांकि मंगलवार की सुबह तक पुलिस के हाथ कोई अहम कड़ी नहीं लग सकी थी। यूपी पुलिस ने एडीजी जोन वाराणसी और आइजी रेंज के साथ ही वाराणसी ग्रामीण पुलिस को निर्देशित किया है कि रोहनिया  क्षेत्रान्तर्गत पत्रकार की जघन्य हत्या की घटना के दृष्टिगत टीमों का गठन कर, फॉरेंसिक टीम/सीसीटीवी का सहयोग व वैज्ञानिक साक्ष्य संकलन कर शीघ्रातिशीघ्र घटना का अनावरण व अभियुक्तों की गिरफ्तारी सुनिश्चित करे। 


ग्रामीणों के मुताबिक जमीन के कारोबार से जुड़े होने के कारण उनका कतिपय लोगों से विवाद भी चल रहा था। इसकी को लेकर रोहनिया थाना क्षेत्र के अखरी गांव निवासी एनडी तिवारी इन दिनों कुछ उलझन में थे। इसी परिप्रेक्ष्य में वह 15 दिनों से रोज शाम शूल टंकेश्वर मंदिर में जाकर पूजा पाठ कर रहे थे। माना जा रहा है कि इसकी जानकारी बदमाशों को हो गई थी। वे मौके की तलाश में थे। रात का सन्नाटा पाकर उन्होंने वारदात को अंजाम दे दिया और मीरजापुर की ओर भाग निकले।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रातः काल तड़तड़ाई गोलियां, बदमाशों ने अखिलेश यादव की कर दिया हत्या,ग्रामीण जनों में घटना को लेकर गुस्सा

आज से लगातार 08 दिनों तक बैंक रहेंगे बन्द जानें इस माह में कितने दिवस होगे काम काज

यूपी के गांव में जमीनी विवाद खत्म करने के सरकार ने बनायी यह योजना,नहीं होगी मुकदमें की नौबत