आखिर गैंगरेप पीड़िता को न्याय के लिए डीजीपी के चौखट तक क्यों जाना पड़ा,क्या इसका जबाब देगी जिले की पुलिस



जौनपुर। जनपद में थाना कोतवाली क्षेत्र स्थित गैंगरेप की पीड़िता द्वारा लखनऊ स्थित डीजीपी कार्यालय पर न्याय की गुहार लगाने के मामले ने जौनपुर पुलिस को सवालों के कटघरे में खड़ा कर दिया है। आखिर जौनपुर की पुलिस ने गैंगरेप पीड़िता के साथ न्याय क्यों नहीं किया। कौन सी ऐसी परिस्थिति रही कि मुकदमा लिखने के बाद भी अभियुक्त गिरफ्तार नहीं किये गये। 
खबर वायरल हुई है कि जनपद मुख्यालय की निवासिनी एक महिला लखनऊ स्थित डीजीपी कार्यालय के पास शिकायती पत्र लेकर गयी है। बताया जा रहा है कि महिला के साथ 2019 में 04 लोंगो द्वारा जबरिया गैंगरेप किया गया रेपिस्ट के खिलाफ तहरीर देने पर पुलिस ने मुकदमा तो लिखा लेकिन रेपिस्टों की गिरफ्तारी  नहीं किया। आरोप है कि आज तक अभियुक्त पुलिस हिरासत में नहीं लाये जा सके है। 
पीड़िता का आरोप यह भी है कि गिरफ्तारी न होने से अभियुक्तों के हौसले बुलंद है और लगातार धमकियां भी दे रहे। इतना ही नहीं अभियोग पत्र न्यायालय पहुंचा और कोर्ट से एनवीडब्लू तक जारी है फिर भी उनकी सेहत पर कोई असर नहीं है 
इस घटना के एक अभियुक्त के बिषय में पीड़िता का कथन है कि अभियुक्त साहिद हसन का सम्बन्ध मुख्तार अंसारी गिरोह के लोंगो से है साहिद का सीधा संबंध बीते कुछ समय पहले चित्रकूट की जेल में गैंगवार के तहत मारे गये कुख्यात अपराधी मेराजा से रहा है। मेराज भले ही इस दुनियां में नहीं है लेकिन उसका गैंग आज भी सक्रिय है।
पीड़िता ने अपने शिकायती पत्र में कहा है कि जौनपुर से लेकर वाराणसी तक पुलिस विभाग के अधिकारियों तक न्याय की गुहार लगायी नहीं सुने जाने पर अब इस मामले को डीजीपी के दरबार में पंहुचा दिया गया है पीड़िता अपने और परिवार के जान व माल की सुरक्षा चाहते हुए गैंगरेप करने वाले रेपिस्टों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग कर रही है।

Comments

Popular posts from this blog

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?

स्वामी प्रसाद मौर्य के कार्यालय में तोड़फोड़ गोली भी चलने की खबर, पुलिस जांच पड़ताल में जुटी

लोकसभा चुनाव के लिए सायंकाल पांच बजे तक मतदान का प्रतिशत यह रहा