यूपी विधानसभा चुनाव 2022 : पीएम नरेन्द्र मोदी के गढ़ में भाजपा को टक्कर देंगे ओमप्रकाश राजभर


पिछले करीब तीन वर्ष से भाजपा के खिलाफ लगातार मोर्चा खोले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के मुखिया ओमप्रकाश राजभर ने मोदी के गढ़ में भाजपा को टक्कर देने का निर्णय लिया है। वह यहां की शिवपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे। शिवपुर से वर्तमान में विधायक अनिल राजभर योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं।
सपा गठबंधन में सुभासपा को वाराणसी की शिवपुर व अजगरा सीट मिली है। कार्यकर्ताओं की इच्छा है कि वह शिवपुर से चुनाव लड़ें। इसलिए मैंने निर्णय लिया है। दो-तीन दिनों में वाराणसी आएंगे और कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर घोषणा करेंगे। गाजीपुर की जहूराबाद सीट से चुनाव न लडऩे के प्रश्न पर कहा कि कोई समस्या नहीं है। कार्यकर्ताओं की इच्छा है इस कारण शिवपुर से लडऩे का निर्णय लिया है।
ओमप्रकाश राजभर 2017 चुनाव में भाजपा से गठबंधन कर गाजीपुर की जहूराबाद सीट से चुनाव लड़े। वह जीत कर योगी सरकार में मंत्री बने। ओमप्रकाश का 2019 में भाजपा से नाता टूट गया। तब से वह लगातार भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोले हैं और हमलावर हैं। 2022 चुनाव के लिए पहले ओमप्रकाश ने एआइएमआइएम के साथ हाथ मिलाए लेकिन ज्यादा दिन साथ नहीं रहा। कुछ दिनों पहले ओमप्रकाश ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन कर लिया। सपा मुखिया अखिलेश यादव ने गठबंधन में उनके सीटों की घोषणा नहीं की लेकिन वह लगातार कह रहे हैं कि भाजपा को हराना है, सीट महत्वपूर्ण नहीं है।
ओमप्रकाश राजभर भले ही गाजीपुर की जहुराबाद सीट से विधायक हैं पर उनकी दावेदारी में पेंच फंस गया है। वहां से शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी की नेता व पूर्व मंत्री शादाब फातिमा दावेदारी कर रहीं है। इस कारण अंदाजा लगाया जा रहा था कि हो सकता है ओमप्रकाश कहीं और से चुनाव लड़ें।
विधानसभा चुनाव 2017 में भाजपा प्रत्याशी अनिल राजभर ने शिवपुर सीट पर एक लाख 10,453 वोट पाकर जीत हासिल की थी। उन्होंने सपा के आनंद मोहन गुड्डू यादव को 54,259 वोट से हराया था। तीसरे स्थान पर रहे बसपा के वीरेंद्र सिंह को 46,657 मत मिले थे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अब से राशन मिलना बंद, पूरे 4 महीने के लिए लगी राशन पर रोक, जानें क्या है कारण

जौनपुर में शादी का झांसा देकर किशोरी से दुष्कर्म, मुकदमा दर्ज पुलिस जांच में जुटी

पूर्वांचल के रास्ते यूपी में जानें कब प्रवेश कर सकता है मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी निजात