देश की तरक्की के लिए शांति और सद्भाव जरूरी - हीरालाल मौर्य


वाराणसी। गणतंत्र दिवस के अवसर पर अशोका इंस्टीट्यूट आफ टेक्नालाजी एंड मैनेजमेंट में तिरंगा फहराने के साथ आजादी का जश्न मनाया गया। इस मौके पर मुख्य अतिथि काशीरत्न  हीरालाल मौर्य ने कहा कि देश की तरक्की के लिए शांति और सद्भाव जरूरी है। हर सवाल के जवाब का आधार शांति होना चाहिए। एकजुटता और भाईचारे के जरिए हर समस्या के समाधान का प्रयास हो। इक्कीसवीं सदी ज्ञान-विज्ञान और लोकतंत्र का युग है। दुनियां की किसी भी समस्या का हल, कोई दूसरी समस्या पैदा करने से नहीं, बल्कि उसका समाधान ढूंढ़कर ही हो सकता है। हम सब मिलकर, एक ऐसे नए भारत के निर्माण में जुट जाएं, जहां शांति हर सवाल के जवाब का आधार हो। एकजुटता से हर समस्या के समाधान के प्रयास हो। शांति और भाईचारा को बढ़ावा देकर देश विरोधी ताकतों को परास्त करें। हमें मिलकर देश के विकास में भागीदार बनना चाहिए। किसी भी समस्या का समाधान दृण इच्छाशक्ति, शांति और एकजुटता से ही किया जा सकता है।  
श्री मौर्य ने देशवासियों को गणतन्त्र दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हमारी एकजुटता और भाईचारे के चलते ही राष्ट्र विरोधी ताकतें नतमस्तक हो रही हैं। गणतंत्र-दिवस के पवित्र अवसर पर हम अपील करना चाहते हैं बुराई के रास्ते पर चलने वाले, राष्ट्रभक्त बनें और शांतिपूर्ण तरीके से समस्याओं को सुलझाएं। कोरोना के संकटकाल में इस महामारी पर तभी विजय पाया जा सकता है जब हम शासन की गाइडलाइन के अनुरूप व्यवहार को अमल में लाएंगे।
वाइस चेयरमैन अमित मौर्य ने कहा कि भारत के महान स्वतंत्रता सेनानियों ने कड़ी मेहनत और संघर्ष के करके देश को स्वराज दिलाया है। महात्मा गांधी, भगत सिंह, चन्द्रशेखर आजाद, लाला लाजपत राय, सरदार बल्लभ भाई पटेल, लाल बहादुर शास्त्री ने देश को आजाद कराने के लिए अपने जीवन तक का बलिदान कर दिया। उसी का नतीजा है कि आज हम आजादी की हवा में सांस ले रहे हैं। अपराध, भ्रष्टाचार और हिंसा जैसी समस्याओं से निपटने के लिए हमें अपने देश को एक सफल, विकसित और स्वच्छ देश बनाना होगा। साथ ही गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा, ग्लोबल वार्मिंग, असमानता, आदि जैसे चीजों को अच्छी तरह समझना होगा और इनका हल निकालना होगा।
इस मौके पर अशोका इंस्टीट्यूट के संस्थापक ई0 अशोक मौर्य, चेयरमैन ई0 अंकित मौर्य अलावा डा.बृजेश सिंह, प्रो.एसके शर्मा, प्रो.सीपी मल, डीन ईएसएस कुशवाहा, रजिस्ट्रार असीम देव आदि ने विचार व्यक्त किए। झंडारोहण के अवसर इंस्टीट्यूट के सभी शिक्षक और कर्मचारी उपस्थित थे, जिन्होंने तिरंगा फहराने के बाद देश की एकता और अखंडता की शपथ ली।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भीषण सड़क दुर्घटना में दस लोगो की मौत दो दर्जन गम्भीर रूप से घायल, उपचार जारी

यूपी में जौनपुर के माधोपट्टी के बाद संभल औरंगपुर जानें कैसे बना आइएएस आइपीएस की फैक्ट्री

सरकार ने प्रदेश के इन 12 आईपीएस अधिकारियों का किया तबादला