छात्रा हत्याकांड: पोस्टमार्टम रिपोर्ट से बड़ा खुलासा, दुष्कर्म और हत्या को लेकर सामने आया चौंकाने वाला सच



प्रयागराज के कर्नलगंज के सादियाबाद के पास स्थित जंगल में 18 वर्षीय बीए की छात्रा की हत्या से पहले उसके साथ दुष्कर्म किया गया। हत्यारों ने इसके बाद नाक-मुंह दबा दिया था, दम घुटने की वजह से छात्रा की मौत हुई। पोस्टमार्टम के बाद इस बात का खुलासा हुआ। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया, जिसके बाद उन्होंने अंतिम संस्कार कर दिया। तीन डॉक्टरों के पैनल ने वीडियोग्राफी के बीच छात्रा के शव का पोस्टमार्टम किया। पोस्टमार्टम के दौरान यह बात सामने आई कि छात्रा के साथ दुष्कर्म किया गया था। फिलहाल स्पर्म के नमूनों को एकत्र कर लिया गया है। साथ ही वैजाइनल स्वैब की स्लाइड भी प्रिजर्व कर ली गई है। सूत्रों का कहना है कि स्पर्म व स्लाइड की जांच के बाद ही यह स्पष्ट हो सकेगा कि छात्रा से दरिंदगी में कितने लोग शामिल थे। इसके अलावा पोस्टमार्टम के दौरान यह भी बात सामने आई कि छात्रा की मौत दम घुटने की वजह से हुई।
दरअसल पोस्टमार्टम रिपोर्ट में छात्रा की मौत का कारण ‘एस्फिक्सिया बाई स्मूदरिंग’ लिखा है। जानकारों का कहना है कि इसका मतलब यह है कि नाक और मुंह दबाकर उसकी हत्या की गई। यह स्थिति तब बनती है जब नाक और मुंह लगातार दबाए रखकर फेफड़ों तक ऑक्सीजन के प्रवाह को अवरुद्ध कर दिया जाए। इसमें दम घुटने की वजह से व्यक्ति की जान चली जाती है।
कुएं में फेंके जाने, शव निकालने में लगी थीं चोटें
छात्रा के शव के पोस्टमार्टम के दौरान यह बात भी सामने आई कि मृतका के शरीर पर मिलीं चोटें कुएं में फेंके जाने के दौरान और फिर शव बाहर निकालने के दौरान आईं। दरअसल पोस्टमार्टम में खुलासा हुआ कि शरीर पर मौजूद चोटें उसकी मौत के बाद आईं। यानी कुएं में फेंके जाने के दौरान ऊंचाई से गिरने की वजह से उसके सिर और कुएं में लगे लोहे के पाइपों से टकराने की वजह से शरीर के अन्य हिस्सों में चोटें आईं। उधर शरीर पर मिले खरोंच के निशानों की बाबत माना जा रहा है कि शव कुएं से बाहर निकालने के दौरान यह चोटें लगीं।
मूल रूप से सरायममरेज की रहने वाली 18 वर्षीय छात्रा ईश्वर शरण कॉलेज में बीए द्वितीय वर्ष की पढ़ाई कर रही थी। वह बघाड़ा स्थित गर्ल्स हॉस्टल में रहती थी। 22 जनवरी की रात 8.30 बजे वह दवा लेने जाने की बात कहकर हॉस्टल से निकली और फिर नहीं लौटी। उसकी रूम पार्टनर ने 23 जनवरी को उसके परिजनों को इस बात की जानकारी फोन से दी।
दिन भर तलाश के बाद भी कुछ पता नहीं चलने पर शाम को परिजनों ने कर्नलगंज थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई। पुलिस ने गर्ल्स हॉस्टल पहुंचकर जांच पड़ताल की तो पता चला कि सलोरी में ही रहकर तैयारी करने वाले आजमगढ़ निवासी अमन सिंह से उसकी बातचीत होती थी और वह 22 जनवरी की रात उससे मिलने गई थी.
पुलिस ने जब अमन को हिरासत में लेकर उससे पूछताछ की तो उसने बताया कि घटना वाले दिन वह छात्रा से मिलने के लिए सादियाबाद के पास स्थित सुनसान स्थान पर गया था। इसी दौरान वहां तीन-चार लोग आए और दोनों को बेरहमी से पीटना शुरू कर दिया। किसी तरह मौका पाकर वह वहां से जान बचाकर भाग निकला लेकिन इस दौरान छात्रा को हमलावरों ने पकड़ लिया।
इसके बाद पुलिस ने सोमवार सुबह सादियाबाद के आसपास रहने वाले 11 नशेड़ियों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की। उनसे मिली जानकारी के आधार पर शाम छह बजे के करीब सादियाबाद के पास स्थित जंगल में सर्च ऑपरेशन शुरू किया। करीब एक घंटे बाद जंगल के भीतर स्थित सूखे कुएं में छात्रा की लाश बरामद हुई।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अब से राशन मिलना बंद, पूरे 4 महीने के लिए लगी राशन पर रोक, जानें क्या है कारण

जौनपुर में शादी का झांसा देकर किशोरी से दुष्कर्म, मुकदमा दर्ज पुलिस जांच में जुटी

पूर्वांचल के रास्ते यूपी में जानें कब प्रवेश कर सकता है मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी निजात