शार्ट सर्किट से लगी आग जानें कैसे लील गयी चार जिन्दगियां, सीएम ने जताया दुख


प्रधान मंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी स्थित कमच्छा के अशफाक नगर कॉलोनी में आज गुरुवार की दोपहर आग सीधे मौत बनाकर आयी और चार जिन्दगियों को जला कर मौत के घाट उतार दिया है। घटना की खबर पर सीएम ने गहरा दुख व्यक्त किया है। जी हा साड़ी के एक गोदाम में शार्ट सर्किट के चलते आग से पिता-पुत्र समेत चार लोग जिंदा जल गए। दमकल कर्मियों के पहुंचने पहले ही मोहल्ले के लोगों ने आग पर काबू पाया। जिलाधिकारी ने पीड़ित परिवारों को चार-चार लाख मुआवजा देने की घोषणा की। मौके पर पहुंची फोरेंसिक टीम और भेलूपुर पुलिस ने छानबीन की। 
भेलूपुर थाना अंतर्गत रेवड़ी तलाब क्षेत्र के अंसार नगर कॉलोनी निवासी मो. आरिफ जमाल का परिवार साड़ी में पॉलिश आदि का काम करता है। घर से कुछ दूरी पर स्थित अशफाक नगर कॉलोनी में सिराज के दो मंजिला मकान के भूतल पर बने एक हॉल को आरिफ ने किराया पर लेकर उसमें साड़ी का गोदाम बना रखा है।
गुरुवार दिन में करीब पौने 12 बजे  कमरे में दरवाजे के  पास अचानक शार्ट सर्किट से आग लग गई और कमरे में धुआं भर गया, दूसरा दरवाजा नहीं खुलने से गोदाम में मौजूद आरिफ जमाल (45) व उसका बेटा मो. शाबान (22) और बिहार के अररिया निवासी दो मजदूर एजाज (18) और मुंतशिर (19)  की झुलसने से दर्दनाक मौत हो गई।
लगभग आधे घंटे के बाद फायर ब्रिगेड और पुलिस को सूचना दी गई। घटनास्थल पर पहुंचे जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने मृतक परिवारों को मुख्यमंत्री राहत कोष से चार-चार लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की। डीसीपी काशी आरएस गौतम, एडीसीपी राजेश पांडेय ने फोरेंसिक टीम संग छानबीन के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया।
स्थानीय लोगों ने संकरी गली में स्थित मकान के हॉल में पानी डाल कर आग बुझाई और गैस सिलिंडर को बाहर सुरक्षित निकाल लिया। आग किसी और घर में नहीं पहुंची। संकरी गली में आमने-सामने कई घर हैं। कमरे में मौजूद चारों व्यक्तियों की मौत आग बुझने से पहले ही हो गई थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस हादसे पर शोक जताया है। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दबंगो के कब्जे से मुक्त करायी 30 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन