तहसील थाना नगर पालिका का निरीक्षणःडीएम ने महिला अपराध पर त्वरित कार्रवाई का पुलिस को दिया निर्देश



जौनपुर। जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा द्वारा लगातार तहसील थाना और नगर पालिका पंचायत के निरीक्षण अभियान के तहत आज तहसील केराकत के तहसील थाना और नगर पंचायत कार्यालय का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान अधिनस्थ कर्मचारियो के कारगुजारियों एवं जन समस्याओ तथा महिला अपराध से जुड़े तमाम मामलो को देखा गया साथ ही अभिलेखो के रखरखाव से हर व्यवस्थाओ को बारीकी के साथ देखा गया। तहसील कार्यालय के निरीक्षण के दौरान उन्होंने कार्यालय तहसीलदार, नायब तहसीलदार, कानूनगो, सब रजिस्टार कक्ष के विभिन्न पटलों का गहनता से निरीक्षण किया। इस दौरान जिलाधिकारी ने 05 साल से लंबित फाइलों को देखा और स्थलीय निरीक्षण कर मुकदमों का निस्तारण करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि कार्यालय में सभी फाइलें रजिस्टर्ड रहे, उन्होंने धारा 145 के फाइलों को देखा और निर्देश दिया कि इससे संबंधित रिपोर्ट लगाएं और जल्द से जल्द निस्तारित करे।
चकबन्दी कार्यालय निरीक्षण के दौरान स्टांप रजिस्टर, डिमांड रजिस्टर और बड़े बकायेदारों की फाइलों को भी देखा और तहसीलदार को निर्देश दिया कि बड़े बकायेदारों को आर.सी. जारी किया जाए। उन्होंने फाइलों को अपडेट करने का निर्देश दिया। अमीन राहुल के कार्य संतोषजनक न पाए जाने पर नाराजगी व्यक्त की और उपजिलाधिकारी को निर्देश दिया कि अमीन का क्षेत्र तत्काल बदला जाए। जिलाधिकारी ने ऑडिट रजिस्टर, जीपीएफ पासबुक का अवलोकन किया और राजस्व लेखपाल विभूति नारायण को निर्देश दिया कि सभी प्रकार की फाइलों को ठीक प्रकार रखें। खतौनी रूम के निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने खतौनी का रेट बोर्ड बाहर लगवाने का निर्देश दिया, आईजीआरएस निस्तारण रजिस्टर के निरीक्षण के दौरान निर्देश दिया कि शिकायतकर्ता का मोबाइल नंबर भी रजिस्टर में दर्ज किया जाए। संपूर्ण समाधान दिवस, उपस्थिति पंजिका, गार्ड फाइल, रिकॉर्ड रूम का निरीक्षण किया। जिलाधिकारी ने रिकॉर्ड रूम के निरीक्षण के दौरान बस्ता सूची को अपडेट करने का निर्देश सब रजिस्टार को दिया। उन्होंने कहा कि रजिस्ट्री विभाग से आए हुए बैनामा को रजिस्टर में दर्ज करें और बैनामा के 35 दिन के अंदर आपत्ति नहीं आती है तो उसका नाम दर्ज करा दिया जाए। उन्होंने कहा कि बैनामा होने के बाद अगर गलत प्रार्थना पत्र देकर दाखिल खारिज में आपत्ति दर्ज करने के लिए प्रार्थना पत्र आता है तो उसका विधिवत जांच की जाए और सही होने की दशा में ही आपत्ति ली जाये। 
अभिलेखागार के निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि रिकार्ड में में रखे बस्ते को सुव्यवस्थित ढंग से रखे जाएं और खसरा खतौनी अपडेट रहें, दाखिल खारिज के फाइलों का निस्तारण करने के निर्देश उपजिलाधिकारी केराकत राजेश कुमार को दिया।
तत्पश्चात जिलाधिकारी ने तहसील मुख्यालय पर स्थित थाना कोतवाली केराकत का निरीक्षण करते हुए पुलिस जनों को शख्त निर्देश दिया कि 
पास्को एवं महिला अपराध के संबंध में त्वरित कार्यवाही की जाए और संपूर्ण समाधान पर आने वाली शिकायतों का गुणवत्तापूर्ण निस्तारण किया जाए।
इसके बाद नगर पालिका केराकत का निरीक्षण करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि अधिशासी अधिकारी अभियान चलाकर कर वसूली कराएं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक घर का नंबर लिखवाने की कार्यवाही की जाए। दुकानों पर एक तरह के साइनेज बोर्ड लगाया जाए। डीएम के निरीक्षण के दौरान एसडीएम  तहसीलदार, सीओ ,ईओ सहित अन्य सभी जिम्मेदार अधिकारी गण उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दबंगो के कब्जे से मुक्त करायी 30 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन