पीएम किसान सम्मान निधी ले रहे किसानो की जांच शुरु, जौनपुर में 23 हजार किसान अपात्र मिले,डेढ़ करोड़ से अधिक की वसूली



जौनपुर। सरकार के निर्देश पर अब प्रधानमंत्री सम्मान निधि लेने वालों की जांच शुरू होते ही विभागीय एवं लाभार्थियों की पोल खुलने लगी है। विभागीय आंकड़े पर विश्वास करें तो जिले में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ ले रहे अपात्रों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि अब तक की जांच में 23 हजार किसान ऐसे पाए गए हैं, जो अपात्र होते हुए भी योजना का लाभ ले रहे थे। हलांकि अब योजना की धनराशि वसूलने का कार्य किया जा रहा है। खबर यह भी है कि अभी तक एक करोड़ 50 लाख 49 हजार रूपये की वूसली की गई है। हालांकि अभी भी कृषि व राजस्व विभाग की टीम लाभार्थियों के घर-घर जाकर ऐसे अपात्र किसानों की जांच करने में जुटी हुई हैं।आगे इनकी संख्या में और भी वृद्धि होने की संभावना जताई जा रही है।
किसानों को खेती किसानी का कार्य करने में दिक्कत न हो। वे खेती का कार्य करे सके, इसके मद्देनजर सरकार की ओर से पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ दिये की योजना सरकार संचालित कर रही है।
योजना के पात्र एक किसान को एक साल में तीन किस्तो में कुल छह हजार रूपये दिया जा रहा है। इस समय कुल सात लाख 56 हजार 451 किसान इस योजना का लाभ पा रहे है,लेकिन भारत सरकार की वेबसाइट पर इनकम टेक्स पेयी 9541 किसानों को योजना का लाभ लेते पकड़ा गया है। इसके बाद योजना का लाभ ले रहे किसानों की जांच शुरू की गई।  कृषि व राजस्व विभाग की टीम बनाकार घर-घर जाकर जांच कराने का कार्य किया जा रहा है। अभी तक कुल 23 हजार किसान विभिन्न कारणों से अपात्र पाए गए, उनसे वसूली की प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है। 
इस संदर्भ में उप निदेशक कृषि जय प्रकाश ने जरिए विज्ञप्ति जानकारी दिया है कि पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ ले रहे अपात्र किसान डायरेक्टर एग्रीकल्चर एंड फाइनेंस कंट्रोलर यूपी के खाता संख्या 40279688625  में सम्मान राशि को जमा कर वापसी कर सकते है। इसका आईएफसी कोड एसबीआईएन 0010173 है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दबंगो के कब्जे से मुक्त करायी 30 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन