एडी बेसिक के निरीक्षण में बीएसए व लेखा कार्यालय का सच गया दब,आल इज ओक



जौनपुर। एडी बेसिक अवध किशोर सिंह ने मंगलवार को बीएसए कार्यालय का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने बीएसए कार्यालय के सभी पटलों पर जाकर अवलोकन किया और संबंधित बाबुओं को फाइलों को सही ढंग से रख रखाव करने और बेहतर ढंग से कार्य करने का सुझाव दिया। इसके बाद लेखा कार्यालय में पहुंचे यहां पर उन्होंने कैश बुक, सेवा पुस्तिकाओं एवं अन्य अभिलेखों का गहनता से निरीक्षण किया और संबंधित बाबुओं को यह सुझाव दिया कि फाइलोे का रख रखाव और बेहतरी ढंग से किया जाये हलांकि लेखा कार्यालय के कामकाज के तौर तरीकों से काफी नाखुश नजर आये। निरीक्षण के दौरान उन्होंने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉ.गोरखनाथ पटेल के कार्यशैली की भी प्रशंसा की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि कार्यालयों में साफ सफाई पर विशेष ध्यान रखा जाये क्योंकि जब साफ सफाई रहेगी तो काम काज का तरीका भी साफ सुथरा रहेगा। निरीक्षण के बाद उन्होंने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में ही खंड शिक्षा अधिकारियों की बैठक ली और इस दौरान उन्होंने खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया कि स्कूल खुलने के बाद अधिकारी स्कूलों का निरीक्षण करें और शिक्षकों को बेहतर ढंग से बच्चों के पठन पाठन पर ध्यान देने के लिए निर्देशित करें। निरीक्षण के दौरान लेखाधिकारी प्रवीण कुमार, एकाउंटेंट रजनीश श्रीवास्तव, उमाकांत वर्मा, अवध नारायण यादव, हर्षित श्रीवास्तव, चंदू सोनकर, बीएसए के बाबू विजय शंकर, विजय शर्मा, अरूण श्रीवास्तव सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे। 
हलांकि एडी बेसिक ने अपने निरीक्षण में आल इज ओक भले कर दिया है लेकिन सच इससे कोसो दूर बताया जा रहा है। बेसिक शिक्षा कार्यालय को भ्रष्टाचार की जननी की उपाधि विगत कई दशक से मिली हुई है जिसे पूरा जनपद वाकिफ है। आज भी इस कार्यालय का एक ऐसा बाबू है जो शिक्षा विभाग से जुड़े हर व्यक्ति से जरिए सिरिंज खून चूसता है और टाप टू बाटम उसके समर्थन में रहते है। इस चर्चित बाबू के भ्रष्टाचार का खुलासा करने के बजाय आल इज ओक हो गया। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर का बेटा बना यूनिवर्सिटी आफ टोक्यो जापान में प्रोफ़ेसर, लगा बधाईयों का तांता

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

यूपी में फिर 11 आईएएस अधिकारियों का तबादला, देखे सूची