आखिर किसकी लापरवाही के चलते युवक ने एसएसपी कार्यालय में उठाया यह खौफनाक कदम



एसएसपी ऑफिस में एक युवक ने खौफनाक कदम उठा लिया। घटना के बाद पुलिस अधिकारियों में हड़कंप मच गया। पुलिस ने युवक को गंभीर हालत में मेडिकल अस्पताल में भर्ती कराया लेकिन, वहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस ने इस मामले में गंभीरता से जांच शुरू कर दी है। जी हां घटना जनपद मेरठ के पुलिस अधीक्षक कार्यालय की है। 
मेडिकल थाना क्षेत्र के सराय काजी निवासी देवेंद्र सिंह ने अपने पड़ोसी से दस साल पहले एक लाख रुपये ब्याज पर लिए थे। आरोप है कि पड़ोसी ने 10 साल में ब्याज लगाकर 10 लाख रुपये कर दिए। रुपये न लौटाने पर उसका मकान गिरवी रखवा लिया, बताया गया कि वह पड़ोसी को ढाई लाख रुपये दे भी चुका था। उसने बताया कि लॉकडाउन के दौरान वह उसे रुपये नहीं दे पाया तो उसके साथ गाली-गलौज की। आरोप है कि अब वह परिवार को बाहर निकालकर मकान में ताला लगाने की कोशिश कर रहा है। वहीं पीड़ित युवक ने मंगलवार को पुलिस से कार्रवाई की गुहार लगाई।
पीड़ित युवक का आरोप है कि वह अब तक ढाई लाख रुपये दे चुका है। इसके बावजूद पड़ोसी उसके मकान के कागज देने को तैयार नहीं है, जिससे परेशान होकर देवेंद्र ने मंगलवार को एसएसपी कार्यालय में पहुंचकर सल्फास खा लिया। हालत गंभीर होने पर पुलिस ने उसे मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।
बताया गया कि देवेंद्र आज दोपहर करीब एक बजे एसएसपी कार्यालय पहुंचा, जहां कार्यालय में तैनात पुलिसकर्मियों से उसने कहा कि मैंने जहर खा लिया है, मुझे अधिकारियों से बात करनी है। इस पर पुलिसकर्मियों ने कार्यालय में मौजूद एसपी क्राइम को मामले की जानकारी दी गई।
जानकारी के अनुसार जहरीले पदार्थ का सेवन करने से पहले एसपी ट्रैफिक जितेंद्र कुमार श्रीवास्तव ने उसकी समस्या सुनी थी। एसपी ट्रैफिक और एसपी क्राइम द्वारा युवक से वार्ता के उपरांत उसे जिला चिकित्सालय भेज दिया गया था। जहां उसकी उपचार के दौरान मौत हो गई। 

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर और मछलीशहर (सु) लोकसभा में जानें विधान सभा वारा मतदान का क्या रहा आंकड़ा,देखे चार्ट

मतगणना स्थल पर ईवीएम मशीन को लेकर हंगामा करने वाले दो सपाई सहित 50 के खिलाफ एफआईआर

आयोग और जिला प्रशासन के मत प्रतिशत आंकड़े में फिर मिला अन्तर