घर से शुरू करके महाअभियान के तहत जन जन तक पहुंचायें योग- गिरीश चन्द यादव


स्वास्थ्य के लिए संजीवनी योग- दिनेश टंडन

जौनपुर। योगासन भारत की प्राचीनतम सभ्यता और संस्कृति की अमूल्य धरोहर है जिसके क्रियात्मक और सैद्धांतिक पक्षों का नियमित और निरन्तर अभ्यासों को करके हर व्यक्ति अपनें स्वास्थ्य को सर्वोत्तम बना सकता है इसलिए आज आवश्यकता है की प्रत्येक व्यक्ति अपनें घर से शुरू करके योग को एक महाअभियान के तहत जन जन तक पहुंचानें में अपनी महति भूमिकाओं को निभाये। ये बातें योग गुरु बाबा रामदेव के दिशा-निर्देशन में पतंजलि योग समिति के तत्वावधान में नगर  स्थित मंगलम् मैरेज हॉल में चल रहे योग शिक्षक प्रशिक्षण शिविर में बतौर मुख्य अतिथि प्रदेश सरकार के शहरी आवास राज्यमंत्री गिरीश चन्द यादव ने कहा है।
शिविर में विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष दिनेश टंडन नें कहा है कि उचित आहार और समुचित दिनचर्या के साथ यदि नियमित और निरन्तर योगाभ्यास किया जाये तो अनेकों प्रकार की साध्य और असाध्य विमारियों से निदान किया जा सकता है। पतंजलि योग समिति के प्रान्तीय सह प्रभारी अचल हरीमूर्ति के द्वारा बताया गया है कि इस विशेष योग शिक्षक प्रशिक्षण में ऐसे प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षित किया जा रहा है जो भविष्य में योग शिक्षक बनकर स्वस्थ और समृद्ध समाज के निर्माण में महती भूमिकाओं को निभायेंगे।

क्रियात्मक योगाभ्यासों के क्रम में श्री हरीमूर्ति के द्वारा डायबिटीज,मोटापा, अस्थमा, सर्वाइकल और स्पोन्डलाईटिस जैसी समस्याओं से पूर्णतः समाधान हेतु योगिक जागिंग, सूर्य-नमस्कार, ताड़ासन, वृक्षासन और मण्डूक आसनों सहित इन्टिग्रेटेड योगाभ्यास के तहत कपालभाति, अनुलोम-विलोम, भ्रामरी और उद्गीथ प्राणायामों के साथ अग्निसार और नौलिक्रियाओं को  कराते हुए ध्यान का अभ्यास कराया गया। इस मौके पर भारत स्वाभिमान के जिला प्रभारी शशिभूषण, हरीनाथ यादव, नवीन द्विवेद्वी, राजीव सिन्हा, डा ध्रुवराज, संजय सिंह, सुनील यादव, हंसराज चौधरी,डा एसके सिंह, डा ओपी यादव, रविन्द्र सिंह, उदय प्रताप, डा चन्द्रसेन यादव, राजेश यादव सहित अन्य साधक गण उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अब से राशन मिलना बंद, पूरे 4 महीने के लिए लगी राशन पर रोक, जानें क्या है कारण

पूर्वांचल के रास्ते यूपी में जानें कब प्रवेश कर सकता है मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी निजात

सीएम योगी के एक ट्वीट से लखनऊ का नाम बदलने की सुगबुगाहट, जानें क्या हो सकता है नया नाम