जल जीवन मिशन में हजारों करोड़ रूपये का आरोप लगाते हुए आम आदमी पार्टी के लोंगो ने प्रदर्शन के राज्यपाल को भेजा ज्ञापन

  

जौनपुर ।आज आम आदमी पार्टी ने उत्तर प्रदेश के अन्दर जल ही जीवन मिशन में हुए हजारों करोड़ों रुपए के घोटाले के संदर्भ में पुलिस के जबरदस्त रोक के बाद भी अपर जिला अधिकारी को मटका फोड़ कार्यक्रम के बाद ज्ञापन सौंपा। इस अवसर पर राजेश अस्थाना ने कहा कि आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने उत्तर प्रदेश में जल जीवन मिशन के क्रियान्वयन में हजारों करोड़ों रुपए के घोटाले का भण्डाफोड़ किया है। सूर्य नारायण सिंह मुन्ना ने कहा कि यह मोदी सरकार और योगी सरकार हम लोगों को लोकतांत्रिक तरीके से विरोध प्रदर्शन करने से लगातार रोकते आ रही है और प्रशासनिक तंत्र में पुलिस को सरकार की लठैत की तरह इस्तेमाल कर रही है, जिला पुलिस के तानाशाही रवैया अब आम आदमी पार्टी नहीं चलने देगी। जिस तरह से मेरे कार्यकर्ताओं के ऊपर लाठियों से पेट में घोपा गया और कार्यक्रम करने से रोका गया यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है।केंद्र सरकार द्वारा शुरू किए गए ‘जल जीवन मिशन’ के अंतर्गत वर्ष 2020-21 में राज्यों को ₹1लाख 20 हजार करोड़ का आवंटन किया गया था। इसी क्रम में मोहम्मद गालिब ने कहा कि इस योजना के क्रियान्वयन में उत्तर प्रदेश सरकार के जल शक्ति मंत्री डॉ महेंद्र सिंह एवं अन्य अधिकारियों के द्वारा किए गए लगभग हजारों करोड़ रुपये के भ्रष्टाचार का मामला सामने आया है। उत्तर प्रदेश में ‘जल जीवन मिशन’ के अंतर्गत हर घर पानी पँहुचाने हेतु पाइप सप्लाई का कार्य ‘रश्मि मटेलिक्स’नामक कंपनी को दिया गया है। केंद्रीय आर्थिक सूचना ब्यूरो (CEIC) ने अपनी जाँच में पाया था कि यह कंपनी फ़र्जी निवेश तथा फ़र्जी शेल कंपनियाँ बनाने में भी लिप्त है। 
 उत्तर प्रदेश में ‘जल जीवन मिशन’ के क्रियान्वयन में भारी आर्थिक अनियमिततायें सामने आयी है, जो कार्य उत्तर प्रदेश जल निगम द्वारा लगभग ₹1580 एवं ₹1501 में संपन्न हो जाता है, वही कार्य जल जीवन मिशन के अंतर्गत लगभग ₹2065 एवं ₹2100 में करवाया जा रहा है। इस तरह भ्रष्टाचार के कारण राज्य में मिशन के हर कार्य के लागत सामान्य से 30% से 40% तक बढ़ गई है। थर्ड पार्टी इन्स्पेक्शन के लिए भी यूपी सरकार ने 1.33% धन खर्च किया है जबकि केरल ने 0.04% और चेन्नई ने 0.15% में ही इसे संपन्न कर लिया। इस तरह से उत्तर प्रदेश में ‘जल जीवन मिशन’ के अंतर्गत भारी आर्थिक अनियमितता एवं भ्रष्टाचार सामने आया है ।
ज्ञापन के माध्यम से महामहिम राज्यपाल से  अनुरोध है कि इस अतिगंभीर मामले को सीबीआई से जांच करवाएं, जिससे दोषियों को सख्त सजा मिले । इस कार्यक्रम में शामिल साथी मोहम्मद शमीम बीएल मौर्य प्रेम प्रकाश प्रेमचंद गौतम मिथिलेश कुमार मनीष सिंह दिलीप सिंह विद्याधर मिश्रा विमलेश कुमार गौतम डॉ अमित श्रीवास्तव बंटी अग्रहरि विशाल बबलू गुप्ता मोहम्मद जैदी पंकज चौहान ऋषभ सिंह जिया लाल प्रजापति सुभाष मौर्य अंबिका प्रसाद राकेश मौर्य रमाशंकर पटेल रामसूरत पटेल आदि तमाम लोग उपस्थित रहे

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन