आशादीप हास्पिटल में कार्डियोलॉजी शिविर में हुई मरीजों की जांच, दिल का दौरा के प्रति रहें सावधान

जौनपुर । जनपद वासियों के लिए बड़ी राहत की खबर है। अब दि ल की  बड़ी बीमारियों के इलाज के लिए उन्हें बड़े सेंटर नहीं दौड़ना पड़ेगा।अब आपके आपने शहर के डाक्टर जो की मेदांता हॉस्पिटल लखनऊ में कार्यरत वरिष्ठ एवं सुपरस्पेशलिस्ट डॉक्टर डॉ गणेश सेठ (डीएम कार्डियोलॉजी) प्रत्येक माह के  तीसरे रविवार को  हर महीने आशादीप हॉस्पिटल अहियापुर मोड़ ,सदर जौनपुर  में सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक परामर्श के लिए उपलब्ध रहेंगे। 
अभी तक जौनपुर  वासियों को इन बीमारियों के परामर्श एवं इलाज के लिए लखनऊ या दिल्ली जाना पड़ता था। अब से स्वास्थ्य परामर्श सेवा हर महीने उपलब्ध रहेगी।
  आज आशादीप हास्पिटल अहियापुर पर निःशुल्क कार्डियोलॉजी शिविर आयोजित किया गया जिसमें लगभग 224 लोगों की जांच किया गया। शिविर का उदघाटन मुख्य विकास अधिकारी अनुपम शुक्ला व विशिष्ठ अतिथि दिनेश टंडन पूर्व अध्यक्ष नगर पालिका परिषद जौनपुर, ने किया। अध्यक्षता वरिष्ठ चिकित्सक डा मनमोहन श्रीवास्तव ने किया।
 डॉ. वी. एस. उपाध्याय ने आये हुए लोगों का स्वागत करते हुए कहा कि वाराणसी मंडल का मुख्यालय होने की वजह से जौनपुर व आसपास के ज़िलों के मरीज़ बड़ी संख्या में आते हैं, लेकिन कुछ विशेष सुविधायें जब नहीं मिल पाती हैं, तो उन्हें लखनऊ लेकर जाना पड़ता है।  इसी क्रम में अब आशादीप  हॉस्पिटल में मेदांता हॉस्पिटल लखनऊ से वरिष्ठ हृदय रोग  रोग के डॉक्टरों द्वारा ओपीडी सेवा प्रदान की जाएगी ,यह जिले के लिए गर्व की बात है।
मुख्य अतिथि अनुपम शुक्ला ने कहा कि आसपास के क्षेत्रों के लिए गर्व की बात है कि जनपद जौनपुर में डा वी एस उपाध्याय जैसे वरिष्ठ चिकित्सक सेवा दे रहे हैं। उन्होंने सरकारी हेल्थ योजनाओं के बारे में भी जानकारी दी।
  डॉ.गणेश सेठ  ने बताया यदि परिवार माता-पिता, भाई, चाचा या दादा-दादी, को अगर 60 वर्ष की आयु से पहले दिल की बीमारी हुई है, तो आपको भी इस बीमारी से जल्दी पीडि़त होने की आशंका लगभग 10 गुना अधिक होती है।पुरुष के लिए 45 वर्ष से ज्यादा, और महिलाओं के लिए 55 वर्ष से अधिक उम्र होने पर दिल का दौरा पड़ने की संभावना अधिक होती है।व्यस्त जीवन शैली के कारण अनियमित आहार, जंक फूड खाना, या अधिक मसालेदार भोजन दिल के दौरे का कारण बनता है।
मेदांता मार्केटिंग हेड अलोक खन्ना ने बताया ,प्रति दिन बड़ी संख्या में जौनपुर से मरीज मेदांता हॉस्पिटल  लखनऊ में आते हैं।   मेदान्ता हॉस्पिटल लखनऊ द्वारा जौनपुर   में ओ.पी.डी. शुरू करने का उद्देश्य ऐसे रोगियों को जौनपुर  में ही परामर्श देना है ,व ऐसे रोगी जो सेकंड ओपीनियन के लिए लखनऊ,दिल्ली का रुख करते हैं  उन्हें घर बैठ ये सुविधा प्राप्त कराना है।
आभार डा अजीत कपूर ने व्यक्त किया। संचालन सैय्यद मोहम्मद मुस्तफा ने किया। इस अवसर पर डा एन के सिन्हा, डा क्षितिज शर्मा, डा मदन मोहन वर्मा, शकील अहमद, अरुण त्रिपाठी,  सोमेश्वर केसरवानी, मनोज चतुर्वेदी, मदन गोपाल गुप्ता, अशोक मौर्य, आर पी सिंह, अवधेश मौर्य, सुभाष यादव, मनोज मौर्य राम कुमार साहू आदि उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

पूर्वांचल की राजनीति का एक किला आज और ढहा, सुखदेव राजभर का हुआ निधन