आइए जानते है सपा ने टिकट वितरण में कैसे साधा सियासी समीकरण, अति पिछड़ों से लेकर व्यापारियों पर दांव


समाजवादी पार्टी ने 44 जिलों की 159 विधानसभा क्षेत्रों में टिकट वितरण के साथ जहां नए सियासी समीकरण साधे, वहीं वर्गीय गोलबंदी भी की है। पार्टी ने दूसरे दलों से आने वालों पर दांव लगाने के साथ ही वरिष्ठ नेताओं के परिजनों, डॉक्टरों, व्यापारी और महिलाओं को भी मैदान में उतारा है।
पार्टी ने पिछड़ी जाति के  यादव, जाट, लोधी, पटेल, मौर्य, शाक्य और गुर्जर के साथअति पिछड़ी जाति के निषाद, धनगर समाज से जुड़े 63 लोगों को भी मैदान में उतारा है। सपा इस रणनीति के जरिए बड़ी आबादी पर अपनी पकड़ मजबूत बनाना चाह रही है। पार्टी ने 28 वर्तमान विधायकों में से 21 को टिकट दिया जबकि आठ के क्षेत्र बदल दिए हैं। 
11 महिलाओं को टिकट 
सपा ने 11 महिलाओं को भी टिकट दिए हैं, इनमें चार पहली बार मैदान में उतरी हैं। एटा से जुगेंद्र सिंह यादव और उनके बड़े भाई विधायक रामेश्वर यादव को अलीगंज से फिर उतारा गया है। पीलीभीत के पूर्व विधायक प्रीतम की बहू आरती को पूरनपुर सीट से, पूर्व मंत्री मनोहर लाल निषाद के पौत्र अभिनव कुमार को उन्नाव से टिकट दिया है। पूर्व सांसद चंद्रपाल के बेटे यशपाल यादव को बबीना से उतारा गया है।
कांग्रेस से आने वालों को भी टिकट
कांग्रेस की पूर्व सांसद अनू टंडन के साथ सपा में आए अंकित परिहार को उन्नाव की भगवंत नगर और उषा मौर्य को फतेहपुर की हुसैनगंज और सपा-कांग्रेस गठबंधन में चुनाव लड़ने वाले रामेश्वर दयाल गुप्ता को बिंदकी से टिकट दिया गया है।
राठौर को नहीं मिला टिकट
भाजपा से नाता तोड़कर आने वाले पहले सीतापुर के विधायक राकेश राठौर को निराशा हाथ लगी। सपा ने उन्हें टिकट नहीं दिया है। 
कोल में बदला उम्मीदवार
अलीगढ़ की कोल विधानसभा क्षेत्र से पार्टी ने पहले सलमान शाहिद को मैदान में उतारा गया था, फिर उनकी जगह शाज इसहाक उर्फ अज्जू को टिकट दे दिया है। वहीं, नूरपुर से विधायक नईमुल हसन अब धामपुर से चुनाव लड़ेंगे। 
डॉक्टर भी मैदान में
फर्रुखाबाद के अमृतपुर से डॉ. जितेंद्र यादव, मोहान से डॉ. आंचल वर्मा, एत्मादपुर से डॉ. वीरेंद्र सिंह चौहान और डॉ. धर्म सिंह सैनी को मैदान में उतारा है। 

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भीषण सड़क दुर्घटना में दस लोगो की मौत दो दर्जन गम्भीर रूप से घायल, उपचार जारी

यूपी में जौनपुर के माधोपट्टी के बाद संभल औरंगपुर जानें कैसे बना आइएएस आइपीएस की फैक्ट्री

सरकार ने प्रदेश के इन 12 आईपीएस अधिकारियों का किया तबादला