धनंजय सिंह के नामांकन को लेकर अजीत सिंह की विधवा के नाम से वायरल पत्र बना चर्चा का बिषय,जानें सच


जौनपुर। जनपद के 367 मल्हनी विधान सभा से जद यू के टिकट पर चुनाव लड़ रहे बाहुबली नेता एवं पूर्व सांसद धनंजय सिंह को लेकर अजीत हत्या काण्ड के बाबत मृतक अजीत सिंह की पत्नी रानू सिंह के नाम से जिलाधिकारी को संबोधित एक प्रार्थना पत्र शोसल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें धनंजय सिंह के नामांकन को रद्द करने की मांग करते हुए कहा गया है कि सही तथ्यो की छिपा कर नामांकन किया गया है।
अजीत सिंह की विधवा रानू सिंह के नाम से वायरल पत्र में कहा गया है कि धनंजय सिंह पुत्र राजदेव सिंह के खिलाफ लखनऊ के थाना विभूति खण्ड में अजीत सिंह हत्याकांड को लेकर मुकदमा अपराध संख्या 15/21 से धारा 302, 307, 120बी, 34, 201, 212 में वान्छित है। इस मुकदमे में सीजेएम कोर्ट लखनऊ की अदालत से धनंजय सिंह के खिलाफ एनबीडब्लू जारी है। यहां तक कि धारा 82 की कार्यवाई हो चुकी है। पत्र में धनंजय सिंह के उपर 25 हजार रुपए का इनाम घोषित होने की बात भी कही गयी है ।यह भी कहा गया है कि लखनऊ स्पेशल जज सीबीआई (3) के यहां एन्ट्री सेपटरी जमानती वेल दाखिल किया गया है जिसमें 18 फरवरी 22 की तिथि निर्धारित है।
पत्र में प्रेयर किया गया है कि कानून के नियमों का पालन करते हुए धनंजय सिंह का नामांकन पत्र निरस्त किया जाये। अब जिला निर्वाचन अधिकारी इस पत्र को कितनी गम्भीरता से लेंगे यह तो उनके उपर निर्भर है लेकिन पत्र इस समय जनपद में चर्चा का बिषय बन गया है। विपक्षी कह रहे है पत्र पर जिम्मेदार अधिकारी को गम्भीरता पूर्वक विचार कर नामांकन निरस्त करना चाहिए तो धनंजय सिंह समर्थक पत्र को फर्जी बताने में जुटे है।

जो भी हो सवाल यह है कि अगर जिला निर्वाचन अधिकारी के पास पत्र आया है तो उस पर विचार होगा या पत्र रद्दी के टोकरी की शोभा बढ़ायेगा। ? इस वायरल पत्र के बाबत मल्हनी के पीठासीन अधिकारी हिमांशु नागपाल ज्वाइंट मजिस्ट्रेट से बात करने पर उन्होने बताया कि शोसल मीडिया पर पत्र वायरल हमने भी देखा जरूर है लेकिन यहां पर जब तक कोई हलफनामा के साथ शिकायती पत्र नहीं देता विचार संभव नहीं है इसलिए धनंजय सिंह को चुनाव लड़ने से नहीं रोका जा सकता है आयोग के गाईड लाईन के तहत नामांकन पत्र की जांच करायी जा रही है। 

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

खुशखबरी: बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग में मुख्य सेविका पद पर होगी भर्ती,जानें कौन कर सकेगा आवेदन