सरकारी विकास के दावे खोखले आज भी सुदूर गांव में नहीं पहुंची विकास की किरण - श्याम सिंह यादव

एक दर्जन गांवो का दौरा कर जनता से रूबरू होकर सांसद ने समस्याओ को सुनकर कराया निस्तारित 

जौनपुर। सांसद जौनपुर श्याम सिंह यादव अपने जौनपुर प्रवास के दौरान आज मंगलवार को सुबह सात बजे से अपने कैम्प कार्यालय पर जनता से रूबरू होते हुए उनकी समस्याओ को सुनकर सम्बन्धित अधिकारियों से सीधा बात करते निस्तारित कराने के पश्चात दिन में संसदीय क्षेत्र के विधान सभा मुंगराबादशाहपुर क्षेत्र के लिए निकल गये। इस क्षेत्र में ग्राम सभा बौरई, खतिरहां, हरीपुर भटौली दुबान, पतहना रंगवा, खागजपुर, भैसहीं,छवजीतपुर, वेर्रा, देवकली,रामपुर, सुल्तानपुर, नहरपुर आदि गांवो में जन सम्पर्क करते हुए जनता की समस्याओ को सुना और अधिकारियों से उसके निराकरण हेतु कहा। 
भ्रमण के दौरान मिलने वाली समस्याओ के बाबत बात चीत करने पर सांसद श्री यादव ने प्रदेश सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि सरकार विकास के कागजी वादे तो तमाम कर रही है लेकिन विकास धरातल पर नजर नहीं आ रहा है। सुदूर ग्रामीण इलाको में तो विकास की किरण कितना दूर है कहना कठिन हो गया है। गांव की तस्वीर बता रही है कि सरकार केवल कागजी विकास का दावा कर रही है। उन्होने बहुत ही स्पष्ट रूप से कहा कि पानी बिजली सड़क और गांव की पगडन्डियों पर चकमार्ग की समस्यायें सुरसा की तरह मुहँ फैलायें खड़ी है। उन्होने यह भी कहा कि दलित कमजोर वर्ग के लोगो की स्थिति को देखकर साफ होता है कि सरकार गरीब दलित और आर्थिक रूप से पिछड़े समाज के विकसित करने के प्रति गम्भीर नहीं है। 
श्री यादव ने बताया कि जिस भी क्षेत्र अथवा गांव में गया वहां पर इस 21वीं सदी के भारत में उपरोक्त समस्याओ को लेकर जनता अपनी दास्ता कहती नजर आई है। श्री यादव ने कहा भारत को विकसित राष्ट्र बनाने का दावा करने वालो को सुदूर गांव गिरावं की आवाम को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने की जरूरत है। सांसद के साथ दिलीप गौतम, विनोद कुमार, शिवनाथ गौतम, चन्द भूषण यादव, शैलेंद्र यादव आदि लोग भी साथ साथ लगे हुए थे। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर का बेटा बना यूनिवर्सिटी आफ टोक्यो जापान में प्रोफ़ेसर, लगा बधाईयों का तांता

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी