समाधान दिवस पर लेखपाल के खिलाफ डीएम का एक्शन जानें क्यों किया निलंबित


जौनपुर। जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा की अध्यक्षता में संपूर्ण समाधान दिवस का आयोजन तहसील केराकत के सभागार में संपन्न हुआ। जिलाधिकारी ने जिला स्तरीय अधिकारियों को निर्देश दिए की जन शिकायतों का निस्तारण गुणवत्तायुक्त एवं समय बाध्यता के साथ किया जाए। उन्होंने गत संपूर्ण समाधान दिवस में प्राप्त हुए प्रकरणों के निस्तारण की गुणवत्ता की जांच करते हुए लंबित मामलों को तत्काल निस्तारित किए जाने के निर्देश उप जिलाधिकारी को दिए।
संपूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर कुल 147 आवेदन प्राप्त हुए जिनमें से मौके पर ही 14 प्रार्थना पत्रों का निस्तारण कर दिया गया तथा शेष प्रार्थना पत्रों को संबंधित विभागों को भेजकर गुणवत्तापूर्ण निस्तारण करने हेतु आदेशित किया गया।
जिलाधिकारी के द्वारा ग्राम पंचायत बोडसरखुर्द के लेखपाल रितेश कुमार के द्वारा दो सगे भाइयों को अलग-अलग जाति प्रमाण पत्र निर्गत कर देने पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए लेखपाल को निलंबित करने के निर्देश दिए गए।
जिलाधिकारी के जनसुनवाई के दौरान 03 माह पूर्व दिए गए निर्देश के बावजूद भी निहालापुर के कानूनगो शैलेंद्र सिंह के द्वारा धारा 30 के अंतर्गत नक्शा संशोधन नहीं किए जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी द्वारा स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिए गए।जिलाधिकारी के द्वारा भूमि विवाद वाले प्रकरणों एवं पैमाइश से संबंधित मामलों में संबंधित लेखपाल एवं पुलिस की संयुक्त टीम को भेजकर विवादित प्रकरण को निस्तारित किए जाने के निर्देश दिए गए। उन्होंने सभी लेखपालों को निर्देशित किया कि पंचायत भवन में रोस्टर के अनुसार अनिवार्य रूप से बैठे।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ0 लक्ष्मी सिंह, उप जिलाधिकारी केराकत माज अख्तर, तहसीलदार अमित कुमार, जिला विकास अधिकारी बीबी सिंह, डीपीआरओ संतोष कुमार सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारीगण उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कैंसर ने ले ली अपना दल के इस विधायक की जान, पूरी विधान सभा शोक में डूबी

स्वामी प्रसाद मौर्य के इस ट्वीट से गरमा गया है सियासी गलियारा

जौनपुर के एसपी सहित यूपी के 11 आईपीएस अधिकारियों का तबादला, अजय पाल शर्मा बने एसपी जौनपुर देखे सूची