12 साल बाद टीजीटी लिखित परीक्षा का परिणाम हुआ घोषित, अभी भी साक्षात्कार असमंजस,जानें क्या है कारण



उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड ने भले ही 12 साल बाद टीजीटी जीवविज्ञान विषय के लिखित परीक्षा का परिणाम घोषित कर दिया है लेकिन साक्षात्कार को लेकर अब भी असमंजस की स्थिति बनी हुई। चयन बोर्ड ने आठ जनवरी को परिणाम किया और बताया कि साक्षात्कार की तिथि बाद में घोषित होगी। ऐसे में चयन बोर्ड के साथ ही अभ्यर्थी भी असमंजस में हैं कि बिना सदस्य के साक्षात्कार कैसे हो। अब चयन बोर्ड की नजर कोर्ट में चल रही सुनवाई पर है।
चयन बोर्ड ने 2011 में विभिन्न विषयों में प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक पद पर भर्ती का विज्ञापन निकाला था। अन्य विषयों की भर्ती प्रक्रिया तो पूरी कर ली गई लेकिन जीवविज्ञान विषय के 83 पदों की लिखित परीक्षा का परिणाम जारी नहीं हुआ। कई साल बाद भी परिणाम जारी नहीं हुआ तो कुछ अभ्यर्थी कोर्ट चले गए। चयन बोर्ड ने मामले में सदस्यों की गठित समिति की रिपोर्ट पर ओएमआर शीट की कार्बन कॉपी से मिलान कर परिणाम तैयार करने का निर्णय लिया।
इस पर चयन बोर्ड ने परिणाम तैयार कराया। आखिरकार कोर्ट के आदेश पर आठ जनवरी को लिखित परीक्षा का परिणाम जारी कर दिया गया। 83 पदों के सापेक्ष 164 अभ्यर्थी साक्षात्कार के लिए सफल घोषित किए गए। अब अभ्यर्थी असमंजस में हैं कि जब चयन बोर्ड में सदस्य ही नहीं हैं तो साक्षात्कार कैसे होगा। ऐसे में अब चयन बोर्ड और अभ्यर्थियों की नजर कोर्ट में चल रही सुनवाई पर टिकी है।   

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मेदांता में इलाज करा रहे इस आईएएस अधिकारी का हुआ निधन

जौनपुर में फिर तड़तड़ायी गोलियां एक युवक गम्भीर रूप से घायल बदमाश फरार, पुलिस अंधेरे में चला रही छानबीन की तीर

थाना चन्दवक की वसूली लिस्ट वायरल होने पर एक बार फिर सुर्खियों में पुलिस जांच शुरू