हौसला बुलन्द बदमाशो ने कार सवार को रोककर किया पिटाई और छिनैती, पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने में क्यों किया विलंब

जौनपुर। नेवढ़िया थाना क्षेत्र स्थित खेतापुर महारथपुर गांव निवासी रणजीत सिंह मंगलवार की शाम मड़ियाहूं थाना क्षेत्र के मोकलपुर गांव में अपने बहन के यहां परिवार के अन्य सदस्यों के साथ पूजा पाठ में सम्मलित  होने गए थे। वहां से लौटते समय नेवढ़िया थाना क्षेत्र के इटाये बाजार में पहुंचे तो फॉर्चूनर गाड़ी को दो बदमाश बाइक से ओवरटेक करने लगे। करीब एक किलोमीटर दूर बर्राह पुल के पास फॉर्च्यूनर के आगे अपनी बाइक बदमाशों ने लगा दी और बदमाशों ने किसी को फोन किया। 2 मिनट के अंदर 4 लोग और आ गए।
गाड़ी में सवार रणजीत सिंह को राड व डंडे से मारकर लहूलुहान कर दिया। आरोप है कि उनके गले की चेन व हाथ का ब्रेसलेट लूट लिया। रणजीत सिंह के साथ अन्य लोगों ने 112 नंबर पुलिस को सूचना दी। 112 नंबर की पुलिस घटनास्थल पर न पहुंचकर उनको इटाए बाजार आने को कहा। पीड़ित जब वहां पहुंचे तो रणजीत सिंह का बहता खून देखकर 112 पुलिस  घबरा गई और तुरंत हॉस्पिटल जाने की सलाह दी।
पीड़ित रात करीब 11.30 बजे मड़ियाहूं पहुंचे तो निजी चिकित्सालय के चिकित्सकों ने हाथ उठा लिया और इलाज करने में असमर्थता जताई। किसी प्रकार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मड़ियाहूं में उनका इलाज हो पाया। इसके बाद पीड़ित रात में ही नेवढ़िया थाना पहुंचा तो थाने की पुलिस तत्काल एफआईआर दर्ज करने के बजाय बुधवार की सुबह थाने पर आने की बात कह कर वापस घर लौटा दिया। जबकि तत्काल मुकदमा दर्ज कर अपराधियों खिलाफ कार्रवाई की जरूरत थी। पुलिस की इस तरह की लापरवाही पूर्ण कार्यशैली से हमलावरों के हौसले जरूर बुलंद है। घटना के संबंध में थानाध्यक्ष विनय कुमार मिश्रा कहते है घटना लूट नहीं है मारपीट की है। घटना जो भी हो पुलिस को कार्रवाई तत्काल करनी चाहिए सावाल यह है कि आखिर क्यों नहीं किया।

Comments

Popular posts from this blog

भीषण दुर्घटना एक परिवार के आठ सदस्यो की दर्दनाक मौत, पुलिस ने किया विधिक कार्यवाई, इलाके में कोहराम

जौनपुरिया दूल्हा स्टेज पर पिया गांजा तो दुल्हन ने किया शादी से इन्कार,पुलिसिया हस्तक्षेप के बाद बगैर दुल्हन के लौटे बाराती

एक लाख रुपए घूस लेते हुए लेखपाल चढ़ा एन्टी करप्शन टीम के हाथ पहुंच गया सलाखों के पीछे जेल