साथ जीने मरने की कसम को निभा गया यह दम्पति,पहले पति फिर पत्नी का हुआ निधन एक साथ जली दोनो की चितायें


साथ जीने मरने की कसमें खाकर एक-दूसरे का हाथ थामने वाले बुजर्ग तिलक यादव और उनकी पत्नी लचिया देवी ने उम्र के अंतिम पड़ाव तक इस वादे को खूब निभाया। सोमवार की रात महज एक घंटे के अंतराल में दोनों की मौत हुई तो लोग हतप्रभ रह गए। हर किसी की जुबां पर बुजुर्ग दंपती के अनूठे प्रेम की चर्चा होने लगी। मामला सोनभद्र के विंढमगंज थाना क्षेत्र के देवढ़ी गांव का है।
देवढ़ी गांव निवासी तिलक यादव (85) सोमवार को रात दुनिया अलविदा कह दिये। इस घटना के बाद विलाप में जुटे परिवार के सदस्य अपने रिश्तेदारों को सूचित करने में जुटे थे। इस बीच करीब एक घंटे बाद ही उनकी पत्नी लचिया देवी (82) की भी मौत हो गई। बुजुर्ग दंपती की अचानक एक साथ मौत से परिजन सकते में आ गए। परिवार के लोगों ने बताया कि दोनों पूरी तरह स्वस्थ जीवन जी रहे थे। मृतक दंपती के बड़े पुत्र नक्कू यादव ने बताया कि मां और पिता में गहरा प्रेम था। दोनों बराबर साथ ही रहे। पिता की अचानक मौत का मां को गहरा सदमा लगा और उनकी भी मौत हो गई। इस खबर के बाद बुजुर्ग दंपती के अंतिम दर्शन के लिए बड़ी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। मंगलवार को कनहर नदी में एक साथ बुजुर्ग दंपती के शवों का अंतिम संस्कार किया गया।

Comments

Popular posts from this blog

स्वामी प्रसाद मौर्य के कार्यालय में तोड़फोड़ गोली भी चलने की खबर, पुलिस जांच पड़ताल में जुटी

सड़क चौड़ीकरण के लिए जानिए कौन कौन से मन्दिर टूटने के कगार पर ,क्या है लोक निर्माण विभाग की योजना

लोकसभा चुनाव के लिए सायंकाल पांच बजे तक मतदान का प्रतिशत यह रहा